102, नॉट आउट, मनोरंजक फ़िल्म

Read Time1Second
edris
102, नॉट आउट
हस्ती गुदगुदाती फ़िल्म
नॉट आउट
अदाकार :- अमिताभ, ऋषि कपूर, जिमित त्रिवेदी,
निर्देशक :-  उमेश शुक्ला
संगीत :-  सलीम सुलेमान,
अवधि :-  101 मिंट
दोस्तो फ़िल्म से पहले एक छोटी चर्चा ज़रूरी है क्योंकि भारत मे भी अब परिवर्तित सिनेमा का दौर आ गया लग रहा है मिसाल के तौर पर न्यूटन, गुड़गांव, फुकरे, ओक्टोबर अब 102 नॉट आउट
कुछ फिल्मो के विषय ही आम इंसान के करीब होते हुवे गुजरते है क्योंकि फ़िल्म या तो मनोरंजक, या तो यथार्थवादी, या सामाजिक परिदृश्य को साकार करती होती है
लेकिन कुछ फ़िल्में केवल विषय परक होती है जो कि मनोरंजन के गलियारे से होते हुवे एक सन्देश पहुचाती है दर्शकों तक
तो यह फ़िल्म ठीक इसी तरह की फ़िल्म है
IMG_20180504_185335
कहानी
फ़िल्म की कहानी एक बाप बेटे और उसके बेटे पोते की कहानी है
बाबूलाल बखरिया (ऋषि कपूर) जिसकी उम्र 75 साल है उसकी जिंदगी में  महज डॉक्टर से मुलाकात और बेटा धीरू(जिमित त्रिवेदी) विदेश में रहता उसके इंतेज़ार के सिवा उसका बेटा पिछले 17 साल से पिता से वादे कर रहा है मिलने का लेकिन झांसा देकर टाल देता है,कोई ज़िंदगी का उद्देश्य ही नही बचा है साथ ही वह खुद को बुढा तस्लीम कर चुका है,
इनके पिताजी है दत्रात्र्य बखरिया जिनकी उम्र 102 साल है और इस उम्र में भी ज़िंदगी को जिंदादिली से जीते है साथ ही दुनिया के सबसे ज्यादा उम्र दराज 118 वर्षीय चीनी शख्स से ज्यादा ज़ी कर रेकॉर्ड अपने नाम करना चाहते है,
बाबूलाल संकोची होने के साथ खुद को बुढा मान चुका है, ज़िंदगी को कायदे में जीने में विश्वास करता है लेकिन इनके पिताजी उन्मुक्तता के साथ जिंदादिली से ज़िंदगी को एन्जॉय करते हुवे जीते है
बेटा कैसा भी हो पिता को उसे खुश रखना ही कभी कभी उद्देश्य होकर साधना बन जाता है,
पिता अपने बेटे के सामने कुछ शर्तें रखते है कि यह शर्ते पूरी करो या वृद्धाश्रम में जाओ
पिता पुत्र के प्रयासों में जीत किसकी होगी इसके लिए फ़िल्म देखी जा सकती है
फ़िल्म इसी नाम केगुजराती नाटक पर आधारित है फ़िल्म का पहला हाफ दूसरे के मुकाबले कमज़ोर बना हैं
लेकिन दूसरा भाग रफ्तार से दौड़ता लगा, नाटक फ़िल्म के लेखक सौम्या जोशी है
पटकथा  विशाल पाटिल का है जो कि आपको गुदगुदाता है
पिता पुत्र, पौत्र के रिश्ते पर कितना भी हास्य पैदा किया जाए अंत मे मानवीय संवेदनाओं का जागना लाज़मी है
यही फ़िल्म में भी देखने को मिला
फ़िल्म पूरी तरह से पारिवारिक होकर मनोरंजक है
कलाकारों में महानायक लाजवाब है, ऋषि के अलावा जिमित भी बढ़िया अभिनय कर गए है|
27 साल बाद जोड़ी का आगमन निराश नही करता|
संगीत सलीम सुलेमान का है जो कि ज्यादा प्रभावित नही करता
पार्श्व संगीत जॉर्ज जोजेफ का भी औसत ही है
निर्देशक उमेश इसके पहले भी वह माय गॉड, अक्षय, परेश को लेकर गुजराती नाटक कर ही फ़िल्म बना चुके है
उनका निर्देशन पहले हाफ में थोड़ा ठिला दूसरे हाफ में कहानी की रफ्तार अनुसार ही लगा
लेकिन इस विषय पर फ़िल्म निश्चय ही एक सट्टा खेलने जैसा था उसमें वह सफल लगे उमेश ने शुरूआत की थी बिंदास चेनल के सीरियल ठूँठते रह जाओगे से,
फ़िल्म को 3 स्टार्स

         #इदरीस खत्री

परिचय : इदरीस खत्री इंदौर के अभिनय जगत में 1993 से सतत रंगकर्म में सक्रिय हैं इसलिए किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं| इनका परिचय यही है कि,इन्होंने लगभग 130 नाटक और 1000 से ज्यादा शो में काम किया है। 11 बार राष्ट्रीय प्रतिनिधित्व नाट्य निर्देशक के रूप में लगभग 35 कार्यशालाएं,10 लघु फिल्म और 3 हिन्दी फीचर फिल्म भी इनके खाते में है। आपने एलएलएम सहित एमबीए भी किया है। इंदौर में ही रहकर अभिनय प्रशिक्षण देते हैं। 10 साल से नेपथ्य नाट्य समूह में मुम्बई,गोवा और इंदौर में अभिनय अकादमी में लगातार अभिनय प्रशिक्षण दे रहे श्री खत्री धारावाहिकों और फिल्म लेखन में सतत कार्यरत हैं।

0 0

Arpan Jain

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मजदूर हूँ

Sat May 5 , 2018
हाँ!मैं एक मजदूर हूँ, पर मैं मजबूर नही हूँ। मैं हमेशा ही खाता हूं, खून-पसीने की कमाई। मैं हमेशा ही करता हूँ, सभी लोगों की भलाई। मुझमे थोड़ी भी शर्म नहीं, क्योंकि मैं लाचार नहीं? मैं एक मजदूर हूँ!मजदूर। मेहनत कर रोटी खाता हूँ, मिट्टी से सोना उपजाता हूँ, और […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।