भूख से तड़पती बेसहारा औरत

2
0 0
Read Time3 Minute, 55 Second
avdhesh
‘भूख’ अपने-आप में एक स्वाभाविक बीमारी है,जिसकी अतृप्ति का नाम ‘तड़प’ है। इस तड़प को बिना रोक-टोक के ‘बेसहारा’ के यहाँ आश्रय मिलता है और अगर बेसहारा ‘औरत’ हो तो सोने पर सुहागा अर्थात् सदा-सर्वदा के लिए रहने का अधिकार मिल जाता है। एक बेसहारा औरत का जीवन बेहद जोखिम पूर्ण है और इज्जत को बचाए रख पाना बहुत बड़ी चुनौती है।
जीवन के लिए कुछ अनिवार्य आवश्यकताएँ होती हैं,जिनमें भूख का अहम स्थान है। गरीबी-अमीरी की परिस्थिति से परे इसका हमला हर जीव पर होता ही रहता है। पेट में उठने वाली जठराग्नि इस हद तक कमजोर कर देती है कि,कोई भी जीव मान-अपमान या हानि-लाभ को भूलकर सिर्फ और सिर्फ वर्तमान में क्षुधा पूर्ति को लक्ष्य बना लेता है। भारतीय इतिहास के मध्यकाल में सूखे का वर्णन करते हुए इतिहासकार लिखता है कि-‘भूख से व्याकुल लोग अपने ही अंगूठे को अपने दाँतों से कुतरकर भूख मिटाने का असफल प्रयास करते थे।’
भूख से तड़पती हुई बेसहारा औरत बद से बदतर जिन्दगी जीने के लिए मजबूर हो जाती है। पतनोन्मुख समाज में कदम दर कदम पर उसको मुफ़्त का माल समझकर भूख मिटाने के बदले भोगने वालों की बड़ी संख्या होती है। वह भी एक मशीन की भाँति स्वयं के पुतले को आगे बढ़ा देती है एक प्लेट भात के बदले। खुद को अर्पित न करे तो क्या करे ! भेड़िए नोंच-नोंचकर खा जाएँगे और एक मुट्ठी भात भी नहीं देंगे।
इसके बाद शुरू होती है अन्तहीन कहानी…। प्रकृति के विधान के अनुसार शारीरिक शोषण के उपरान्त अनचाहा अनासक्त गर्भ का बोझ उसके हिस्से में आ जाता है। गरीबी में आटा गीला होना बेहद दुखदाई होता है,और यहां तो खुद के लाले के साथ ही एक और लाल आ जाता है। किसी गटर,किसी नाले के किनारे एक और भूख से तड़पते बेसहारा बच्चे का जन्म होता है। बहुतों को एड्स हो चुका होता है तो कुछ आमन्त्रण देते नजर आते हैं। जिन्दगी और मौत की आँख मिचौनी में एड्स से वह बच्चा बच भी जाए तो कब तक ! जन्म के साथ पैदा हुई आतताई भूख तो पीछा छोड़ेगी नहीं।
पीढ़ी-दर-पीढ़ी असामाजिकता की ओर उन्मुख यह कहानी सिर्फ नाम या रूप बदलकर चलती रहेगी। न भूख भिटेगी और न भूख की तड़प। सामाजिक अवमूल्यन के साथ बेसहारा औरतों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ेगी ही। इतिहास स्वयं को बार-बार दुहराएगा ।
अपराध,अत्याचार,यातना और यन्त्रणा के बीज फँसी भूख से तड़पती एक बेसहारा औरत पैदा होतीे हुई,बामुश्किल जीती हुई और मरती हुई कदम-कदम पर दिखेगी। तब तक दिखेंगी,जब तक हम उनमें एक माता,बहन,बेटी या धर्मपत्नी को नहीं देखेंगे,इसलिए उनको नारीशक्ति और सृष्टि का मूलभूत अवयव समझने की दिशा में मुहिम का आगाज़ करना होगा।
                  #अवधेश कुमार ‘अवध’

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

2 thoughts on “भूख से तड़पती बेसहारा औरत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

धूप और छांव

Thu Jan 18 , 2018
  धूप और धूप ही तो हर तरफ पसर गई। छांव तो बदल ली,छांव जाने किससे डर गई, तीखी धूप लग रही है हाट में-बाजार में। लूटने का चलन देखो सेठ-साहूकार में, छांह की पनाह खोजते गरीबी मर गई। छांव तो बदल ली,ठांव जाने किससे डर गईll लम्बी-चौड़ी बातें करके […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।