‘टॉयलेट:एक प्रेम कथा’ छोटे मुद्दे पर बड़ा मनन

0 0
Read Time6 Minute, 49 Second
edris
एक छोटी समस्या कैसे विकराल रूप ले लेती है,और उसके हल के लिए शासकीय तंत्र कैसे अपनी भूमिका से पीठ दिखाता है,यही दिखाया गया है ‘टॉयलेट:एक प्रेम कथा’ फिल्म में। कहानी यह है कि,36 वर्षीय केशु (अक्षय कुमार) की शादी नहीं हो पाई है। तब रूढ़िवादी परम्परा और अंधविश्वास के चलते एक भैंस ‘मल्लिका’ से केशु का
विवाह कराया जाता है। केशु,साइकिल की दुकान चलाता है और साइकिल देने पास के गाँव में जाता है, तो मुलाकात जया(भूमि पेडणेकर) से हो जाती है।उसे दिल दे बैठता है,और पटाने में लग जाता है। छोटी-मोटी तकलीफ के बाद शादी भी हो जाती है लेकिन,शादी के बाद फ़िल्म में बड़ा ट्विस्ट आता है। पहला कि-यह केशव का दूसरा विवाह है,दूसरा -ससुराल में टॉयलेट नहीं है और खुले में शौच के लिए जाना हो तो नारियों को सुबह तड़के से पहले जाना पड़ता है।
पहला विषय तो जया छोड़ देती है, लेकिन पढ़ी-लिखी होने के कारण दूसरे विषय पर विद्रोह कर देती है। खुले में शौच के लिए मना कर देती है,और अपने घर चली जाती है। आखिरकार एक नारी की अस्मिता और इज़्ज़त पर बन आती देख खुले में शौच से मुक्ति के लिए इसे बनवाना ही पड़ता है।
फिल्म में दकियानूसी विचारों और आधुनिकता के साध घर की अस्मिता पर प्रश्न खड़े किए गए हैं। एक बड़ा सवाल कि,जिस आँगन में तुलसी पूजी जाती हो,वहां शौचालय असामान्य लगता है, लेकिन सनातन धर्म में कहीं भी शौचालय के विरुद्ध कुछ भी नहीं कहा गया है। पुरातन काल से घर के पिछवाड़े शौच के इंतज़ामात हुआ करते थे।
फिल्म के एक दृश्य में अक्षय के पिता (सुधीर पांडे) द्वारा टॉयलेट को तोड़ना और अक्षय का जवाब काबिले गौर दृश्य है। फ़िल्म का पहला हिस्सा गुदगुदाते हुए आगे बढ़ता है,लेकिन दूसरा भाग उबाऊ और सरकारी तंत्र का बिगुल बजाने लगता है।
विचारणीय सवाल है कि,देश की ५८ प्रतिशत आबादी आज भी खुले में शौच करती है। इसमें नारी को खुले में शौच के लिए आज भी उपहास का पात्र होना पड़ता है। इसी मुद्दे को गहराई से बयां करती है ये फ़िल्म।
IMG-20170812-WA0021
निर्देशक नारायणसिंह की यह महज दूसरी फिल्म है। इसके पहले बतौर सम्पादक अक्षय की बेबी,रुस्तम, एयरलिफ्ट,जॉली एलएलबी और १२ से ज्यादा फिल्में उनके खाते में हैं, लेकिन उन्होंने जो ग्रामीण परिदृश्य उकेरा है,उससे लगता है कि उन्हें बड़ी पक्की समझ-बूझ है। अक्षय के बड़े ब्रांड्स की कॉपी टी शर्ट,चश्मा और मोबाइल पर फ़िल्म चलन निश्चित तौर पर आपको जोड़ती है,साथ ही स्थान भी उम्दा लिए हैं,लेकिन सम्पादक से निर्देशक बने नारायण फ़िल्म की कटिंग नहीं कर पाए हैं। वह पूर्वाग्रह से ग्रसित हो गए,इसलिए फिल्म २ घंटे ३५ मिनट देखना ज्यादा लम्बी लगती है।
अगर अदाकारी की बात करें तो, अक्षय लाजवाब होते जा रहे हैं। भूमि ने भी उम्दा अभिनय किया है। एक दृश्य में भूमि के मोनोलॉग में उसकी अभिनय की बारीकियां दिखती हैं। यह जोड़ी एकदम ताजा लगती है। सुधीर पांडे, दिव्यांशु शर्मा बेहतरीन काम दिखा गए हैं,जबकि बाकी सब औसत है।
संगीत पक्ष इतना सटीक नहीं लगता है ।कहीं-कहीं तो गाने ठूंसे हुए लगते हैं। एक गाना ‘लठ्ठ मार…’ ठीक-ठाक बना है। इस फिल्म का बजट मात्र १८ करोड़ रुपए है। अक्षय ने अपने अभिनय की कीमत नहीं ली है,शायद उन्होंने वर्तमान सरकार के राष्ट्रीय पुरस्कार का कर्ज चुकाया है।
फ़िल्म २९०० से ३००० सिनेमाघरों में प्रदर्शन के साथ अकेले प्रदर्शित हुई है।अनुमान है कि,१२ से १५ करोड़ की शुरुआत मिल जाएगी। इस फ़िल्म की कुल कमाई का अनुमान ७० करोड़ पार का लग रहा है।
अंततः फ़िल्म हंसते-गुदगुदाते विषय पर पहुँच जाती है और एक छोटी समस्या को विकराल रूप में दिखा जाती है,लेकिन वर्तमान सरकार के ‘स्वच्छ भारत अभियान’ को पूरा-पूरा सहयोग करती है, तभी तो उत्तर प्रदेश में फ़िल्म कर मुक्त कर दी गई है। विद्या बालन के विज्ञापन को फिल्म के रुप में २ घंटे ३५ मिनट का बना दिया गया है,लेकिन यह हल्का-फुल्का मनोरंजन कर देती है।

                                                                #इदरीस खत्री

परिचय : इदरीस खत्री इंदौर के अभिनय जगत में 1993 से सतत रंगकर्म में सक्रिय हैं इसलिए किसी परिचय यही है कि,इन्होंने लगभग 130 नाटक और 1000 से ज्यादा शो में काम किया है। 11 बार राष्ट्रीय प्रतिनिधित्व नाट्य निर्देशक के रूप में लगभग 35 कार्यशालाएं,10 लघु फिल्म और 3 हिन्दी फीचर फिल्म भी इनके खाते में है। आपने एलएलएम सहित एमबीए भी किया है। इंदौर में ही रहकर अभिनय प्रशिक्षण देते हैं। 10 साल से नेपथ्य नाट्य समूह में मुम्बई,गोवा और इंदौर में अभिनय अकादमी में लगातार अभिनय प्रशिक्षण दे रहे श्री खत्री धारावाहिकों और फिल्म लेखन में सतत कार्यरत हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

शहीदों को सलाम करते हैं...

Sat Aug 12 , 2017
शहीदों की शहादत को सलाम करते हैं, जिस्मों-जान वतन के नाम करते हैं। नमन है ऐसे वीर जवानों को ,वतन की खातिर जो जान भी कुर्बान करते हैं। उनके दम से ख़ुशी हमने पाई है, तिरंगा लहराते हम वतन की शान करते हैं। याद आती है कुर्बानियां,निछावर हम भी दिलो-जान […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।