दर्द

3 0
Read Time48 Second

खुशी से ज्यादा दर्द सच्चा लगता हैं,
वो हर किसी का चेहरा पहचान रखता है।

रातों को जागकर भी मेहनत करना,
हर शख्स को हमेशा आबाद रखता है।

मंजिल को पाने वाला हर शख्स ,
जिद , जुनून, कुछ पीड़ा साथ रखता है।

कलम और क्रान्ति अगर साथ रहे तो,
हर राष्ट्र को इनका साथ खुशहाल रखता है।

मोहब्बत और नफरत कुछ ख़ास ही तो है ,
तभी तो हर कोई इन्हे अपने पास रखता है।

गुलाबो के कांटे ही तो गुलाब को गुलाब रखता है,
प्यार में टूटा हुआ ही तो प्यार को प्यार रखता है।

अनिल कुमार मारवाल

matruadmin

Next Post

नारी को अबला न समझना

Sun Mar 14 , 2021
नारी को अबला न समझना तुम वह गगन मे वायुयान उड़ाती है। कल्पना बन कर यही नारी, अब अंतरिक्ष में पहुंच जाती हैं।। विद्वता मे वह अब कम नहीं, उच्च शिक्षा लेकर उच्च अंक पाती हैं। बड़े बड़े स्कूल व कॉलिजो में भी वह अब पुरुषों को भी पढ़ाती हैं।। […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।