शांतिनिकेतन यात्रा संस्मरण भाग 3

1 0
Read Time2 Minute, 44 Second

कविगुरु रवींद्रनाथ टैगोर शिक्षा व्यवस्था में व्यापक बदलाव की जरूरत महसूस करते थे। उनके मन में एक ऐसे संस्थान की परिकल्पना थी जहां शिक्षा का मतलब केवल किताबों में सिमटना न हो। वे चाहते थे बच्चे बंद कमरों से बाहर निकलकर प्रकृति के साथ जुड़ना सीखें।

कहीं उन्होंने लिखा भी है…’वास्तव में पुस्तकों द्वारा ज्ञान प्राप्त करना हमारे मन का प्राकृतिक धर्म नहीं है…वस्तु को सामने देख सुनकर उसे हिला घुमाकर अपनी आंखों से देखभाल तथा जांच करके ही आविष्कृत ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है।’

शांतिनिकेतन की स्थापना के साथ उन्हें इस परिकल्पना को साकार रूप देने का अवसर मिला। उन्होंने शांतिनिकेतन के अंदर ऐसे वातावरण का सृजन किया जिसमें शिक्षक और विद्यार्थी के बीच कोई दूरी न हो। सब एक साथ मिलकर काम कर सकें।

1901 में उन्होंने शांतिनिकेतन में एक छोटे से विद्यालय की स्थापना की। 1919 में उन्होंने विशेष रूप से कला के एक विद्यालय ‘कला भवन’ की नींव रखी जो आगे 1921 में स्थापित विश्वभारती विश्वविद्यालय का हिस्सा बना। इस ‘कला भवन’ में कला प्रशिक्षण की एक अलग पद्धति अपनायी गई। यह पद्धति दरअसल कला को प्रकृति के साथ जोड़ने का एक अनुपम प्रयोग है। बंद कमरे या स्टूडियो में बैठ कर चित्रकारी करने के बजाय यहां शिक्षार्थी हरे भरे पेड़ों के नीचे पंछियों के गान के साथ प्रकृति का अवलोकन करते हुए चित्र उकेरते हैं।

शिक्षा के साथ व्यक्तित्व निर्माण के लिए विश्वभारती में
‘कला भवन’ के साथ ‘संगीत भवन’, ‘शिक्षा भवन’ (कॉलेज) एवं ‘विद्या भवन’ (रिसर्च विभाग) भी बने। आगे चलकर हिंदी के उच्चतर अध्ययन एवं शोध के लिए ‘हिंदी भवन’ भी विश्वभारती का हिस्सा बना। चीनी भाषा के अध्ययन के लिए ‘चीना भवन’ एवं देश विदेश के धार्मिक विचारों के अध्ययन के लिए ‘दीनबंधु भवन’ का भी निर्माण हुआ…

क्रमशः

#डा. स्वयंभू शलभ

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दिवाली

Thu Oct 24 , 2019
कोई तो हमको समझाये, होती कैसी दीवाली! तेल नदारद दीया गायब, फटी जेब हरदम खाली। हँसी नहीं बच्चों के मुख पर,चले सदा माँ की खाँसी। बापू की आँखों के सपने, रोज चढ़ें शूली-फाँसी। अभी दशहरा आकर बीता,सीता फिर भी लंका में। रावण अब भी मरा नहीं है, क्या है राघव-डंका […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।