एक सोच या कल्पना-डिजिटल चुनाव का सपना।

0 0
Read Time6 Minute, 20 Second

aashutosh kumar

      आज-कल चुनावी मौसम में न जाने कितने लोग दल बदलते है। ये सिर्फ नेताओ तक ही सीमित नहीं है।आम पब्लिक भी रोज दल बदल रहे हैं।हर जगह स्वार्थ का बोल-बाला है। सिद्धान्त विहीन होते परिवेश में राजनीति ही नहीं भावनाओं का खिलवाड बदस्तूर जारी है।
बोलचाल की भाषा में उदंडता, तीखे तेवर और चिडचिडापन इस कदर हावी है कि अच्छे बूरे का अंतर सभी भूला बैठे हैं। जाति धर्म में बाँटकर सत्ता पाना एक मात्र उद्देश्य रह गया है जो जिस जगह सेट है वहाँ से निकलना नही चाहता। ऐसे में सवाल उठता है परिवर्तन कैसे हो। तर्कपूर्ण बात कहीं नही होती सब एक दूसरे का इतिहास बताते हैं डिबेट का स्तर गिरता जा रहा मुद्दे से अलग बात करना एक स्वभाव बन गया है ।
आम लोगो की भावनायें आहत न हो ऐसी सरकार की या प्रतिनिधी की जरूरत इस देश को है।ऐसे में यह जरूरी है कि आप सुनें सबकी करें अपने मन की यह आपका संविधान से प्राप्त मौलिक अधिकार भी है, लेकिन इस बात का भी ख्याल रखें कि अपना फैसला किसी दूसरे पर न थोपे और बिना मतलब के तू-तू मै-मै से बचें।
आम तौर पर देखा जाता है कि आपस में अच्छे रिश्ते होने के बावजूद लोग चुनावी मौसम में रिश्तो में करवाहट पैदा कर लेते है जो नही होना चाहिए इन्ही झंझटो से बचने के लिए कई देशो में गुप्त मतदान कराया जाता है।वैसे हमारे यहाँ इस मँहगाई में भी चुनाव में न जाने कितने धन-बल खर्च किए जाते है जिसे रोकने के लिए कई प्रयास हुए लेकिन आज भी यह जारी है।
सवाल उठता है कि इतने पैसे के वगैर चुनाव क्या संभव नही है?अगर संभव है तो वैसी प्रक्रिया क्यों नही अपनायी जाती? क्या भविष्य में कोई विकल्प है इस लंबी प्रक्रिया और खर्चीला चुनाव से बचने का।ऐसे विषयों पर डिवेट और बुद्धिजीवियों की राय क्यों नही आती ? सरल और स्थायी समाधान ढूंढने के लिए सर्वदलीय बैठक क्यों नही होते ? क्या डिजिटल प्रक्रिया से सभी लोगो तक पहुँचा जा सकता है?अगर हाँ तो फिर इसका समाधान क्यों नही हुआ ?
बदलते समय के साथ परिवर्तन प्रकृति का स्वभाव है।पहले बैलेट और अब ईवीएम तो फिर डिजीटल क्यूँ नही? अब इस समस्या से निजात दिलाने और पारदर्शिता के साथ निखारने के लिए उचित सुरक्षित डिजिटल प्रयोग करने की आवश्यकता है ताकि इस खर्चीली प्रक्रिया का हल निकाला जा सके।चुनावी प्रक्रिया में सारा तंत्र लग जाता है इस चुनाव के समय मे आम लोगो को भी काफी परेशानियाँ उठानी पडती है। रोज के भाषण सड़क जाम बस की कमी अनेक तरह की परेशानियाँ है जो आम लोगो को उठाना पडता है देश का पूरा सुरक्षा तंत्र भी इस प्रक्रिया को पूरा करने में लगा दिया जाता है।आखिर कभी तो हल निकलेगा इस लंबी और जटिल प्रक्रिया का।चुनावी प्रक्रिया में धन का बढता उपयोग भी भ्रष्टाचार को कही न कही बढा रहा है। टिकट लेने से लेकर प्रचार तक रैलियाँ से लेकर बूथ तक हर जगह पैसो का बंदरबांट है हलांकि सभी के नियम और दायरे है फिर भी नियमो की अनदेखी जारी है।
एक कारण और है वह है दलो की बढ़ती संख्या देश की राजनीति में दो ही दल होनी चाहिए पक्ष और विपक्ष इससे विपक्ष मजबूत होगा और सरकारें संतुलन बनाकर काम करेगी एक छोटी सी चूक उसकी कुर्सी ले लेगा ऐसा होने का डर ही भ्रष्टाचार पर अंकुश रख सकेगा।परिवारबाद और क्षेत्रीय मुद्दे नही बल्कि राष्ट्रीय मुद्दे पर ध्यान पुनः लौटेगी और विकसित राप्ट्र निर्माण की गति तेज हो सकेगी।मूलभूत मुद्दे पर पक्ष और विपक्ष ध्यान देंगे जितनी कम पार्टीयाँ होंगी उतने खर्च भी कम होंगे और डिजिटल चुनाव होने से रैला, रैली, प्रचार बूथ आदि के खर्च नगण्य। वोटिंग और नतीजे एक साथ यह एक सोच है या मेरी कल्पना ये मै नही जानता लेकिन दुनियाँ के सबसे बडे लोकतंत्र के लिए यह एक पर्व है और देश के नीति निर्धारक भी इस विषय पर जरूर सोचते होंगे कि कैसे सुगम और इससे भी सरल प्रक्रिया विकसित की जाय ताकि लंबी खर्च से बचा जा सके।

“आशुतोष”

नाम।                   –  आशुतोष कुमार
साहित्यक उपनाम –  आशुतोष
जन्मतिथि             –  30/101973
वर्तमान पता          – 113/77बी  
                              शास्त्रीनगर 
                              पटना  23 बिहार                  
कार्यक्षेत्र               –  जाॅब
शिक्षा                   –  ऑनर्स अर्थशास्त्र
मोबाइलव्हाट्स एप – 9852842667
प्रकाशन                 – नगण्य
सम्मान।                – नगण्य
अन्य उलब्धि          – कभ्प्यूटर आपरेटर
                                टीवी टेक्नीशियन
लेखन का उद्द्श्य   – सामाजिक जागृति

                   

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बता माँ तू क्यों गई हार 

Thu Apr 25 , 2019
माँ तुमने मुझसे क्यों दामन छुड़ा लिया जीवन देने से पहले मेरा जीवन मिटा दिया बताओ तो सही क्या कसूर था मेरा मैं कोई गैर तो न थी, खून थी तेरा तेरे गर्भ में स्वप्न थे पाले सुन्दर-सुन्दर एक पल में हो गये सारे चकनाचूर जन्म अगर मुझको तू दे […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।