Tag archives for drushti

Uncategorized

धड़कन 

धड़कन से  पूछता जुबा नहीं होती तो  दिल का हाल कैसे बया करती  तेरी नजदीकियां  बहारों से पूछता बिन हवाओं  कौन रखता  खुश्बू का हिसाब  फूल नादाँ भोरें नादाँ  गुंजन…
Continue Reading
Uncategorized

इलेक्ट्रॉनिक दुनिया के महान किरदार

वर्तमान में फेसबुक, वाट्सअप ने टॉकीज, टीवी,वीडियो गेम्स, रेडियो आदि को काफी पीछे  छोड़ दिया।कहने का मतलब है कि दिन औऱ रात इसमे ही लगे रहते है।यदि घर पर मेहमान…
Continue Reading

पिता

पिता मील का पत्थर जो,सच्चाई की राह बताते पिता पहाड़ जो,जिंदगी के उतार-चढ़ाव समझाते पिता जौहरी जो,शिक्षा के हीरे तराशते पिता दीवार जो,अपने पर भ्रूण-हत्या पाप लिखवाते पिता पिंजरा जो,रिश्तों…
Continue Reading
Uncategorized

सुकून

दिखावे की होड़ भी, लगती मृगतृष्णा-सी .. जब पैसों के पीछे, भागता है इंसान| समय और पैसा, जैसे रिश्तों से ज्यादा.. अहमियत रखता हो, तभी दौड़ -भाग के खेल में…
Continue Reading

फिर आई है हिचकी

स्त्री हिचकियाँ की सखी, साथ फेरों का संकल्प, दुःख-सुख की साथी, एकाकीपन खटकता | परछाई नापता सूरज, पहचान वाली आवाजों में, खोजता मुझे दी जाने वाली, तुम्हारी जानी-पहचानी पुकार |…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है