मेघों ने अमृत घट, छलकाया अम्बर से, बूंदों  ने चूम लिए, धरती के गाल। शरमाया ताल। परदेसी मौसम ने , अम्बर के आँगन में, टांग दिए मेघों के , श्यामल परिधान। वातायन वातायन, गंध घुली सौंधी-सी, दक्षिणी हवाओं ने, छेड़ी है तान। किरणों ने बदन छुआ, रिमझिम फुहारों का , […]

  हल चलाता जा हे हलधर! इस तपती रेती में, जोते जा तू उम्मीदों को अपनी,गिरवी खेती में। न आया बादल आषढ़िया,गहराया न सावन… श्रम बिन्दु झरझर बरसा,तू बंजर रेती में।।   पूछत प्रिया तेरी तुझसे कैसी होगी अबकी खेती? ब्याह देगें क्या अबके मुहूर्त में अपनी बड़की बेटी! बहुत […]

  आज मैने चाँद को जी भर कर देखा… ना उसे जाने की जल्दी थी,न मुझे कोई काम था… सुकून भरी रैना में मैं और मेरा नितान्त एकान्त था हवा भी दिन भर की तपन के बाद शीतल हो चली थी भागदौड़ भरे दिन और जलती दोपहरी की आखिरकार शाम […]

हम परिंदे हैं गगन के , जो मिल गया आसरा किसी  दरख़्त की शाख का , तो उसे ही अपना समझकर ठहर जाते हैं घड़ी दो घड़ी l मिल जाए गर ओट पत्तों की तो बुन लेते हैं आशियाना , चुनकर अरमानों के तिनके । बेदर्द हवा को ज़रा भी […]

तुम अधर का गीत बन जाओ, मैं गुनगुनाता रहूँ। महफिलें जब भी सजे मैं रौनक बढ़ाता रहूँ, दुआ ऐसी लगे तेरे दिल की माँ.. जमीं से फलक तक बस जगमगाता रहूँ,जगमगाता रहूँl।   खिलाया तूने ये पुष्प जग बगिया में, खुश है तू सौंपकर इसे इस जहाँ को.. दुआ तेरी […]

  चलो उस जिन्दगी को ढूंढने निकलते हैं, जो बार-बार मचलती है,बार-बार फिसलती है.. जो बार-बार छटपटाती है,जो बार-बार अपना हाथ छुड़ाती है, चलो उस जिन्दगी को ढूंढने निकलते हैं …..l एक बार जब मैं निकला था साँसों की तलाश में, कुछ कर गुजरने की आस में.. फँस गया प्रवंनाओं के जाल में, खो गया […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।