इंदौर। हिन्दी भाषा के प्रचार में अग्रणी संस्था मातृभाषा उन्नयन संस्थान को अंतरराष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग एवं स्पेशल मॉनिटर मिशन द्वारा कोरोना काल में जारी साहित्यिक सक्रियता, मानव सेवार्थ किए गए सकारात्मक सेवा कार्यों व मानव अधिकारों की रक्षा के लिए सम्मानित किया गया। ज्ञात हो कि विश्व भर में […]

कार्यक्रम प्रचार निर्देशक नवीन कुमार भट्ट नीर ने बताया कि साहित्य संगम संस्थान दिल्ली के बोली विकास मंच पर बोली संवर्धन ऑनलाइन कार्यक्रम दिनांक 07/06/2020 रविवार को शाम 07 बजे से सम्पन्न हुआ कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मैहर सतना के निवासरत राजेश कुमार तिवारी रामू ,कार्यक्रम अध्यक्ष राजवीर सिंह मंत्र,संयोजिका […]

इन्दौर । विश्वव्यापी कोरोना काल में रक्त दान करने के लिए ब्लड कॉल सेंटर पर इन्दौर के सांसद शंकर लालवानी, रक्त नायक अशोक नायक ने मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ को सम्मानित किया। विगत तीन माह में ब्लड कॉल सेंटर द्वारा लगभग 320 यूनिट रक्त […]

इन्दौर। साहित्य के लिये समर्पित अखिल भारतीय संस्था काव्यकुल संस्थान(पंजी.) के द्वारा  इटारसी मध्यप्रदेश के  राष्ट्रीय युवा प्रवर्तक के प्रधान सम्पादक देवेन्द्र सोनी को  *गणेश शंकर विद्यार्थी सम्मान* से विभूषित किया गया।काव्यकुल संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं अंतरराष्ट्रीय सम्मानित साहित्यकार *डॉ राजीव पाण्डेय* ने बताया कि संस्था के द्वारा हिन्दी […]

इन्दौर। हिन्दी भाषा के प्रचार के लिए राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपना दायित्व निर्वहन कर रही मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा प्रत्येक दिन डिजिटल रूप से देश-विदेश के रचनाकारों को जोड़कर हिन्दी उत्सव मनाया गया। कोरोना के कारण विगत 22 मार्च 2020 से ही पूरे भारतवर्ष में देशबन्दी लागू है। इस […]

कवि मोलवा ने बढ़ाया कवियों का हौसला इंदौर । कोरोना संक्रमण काल में जहाँ एक ओर व्यक्ति कोरोना से जूझता रहा और दूसरी ओर घर बैठे-बैठे व्यक्ति अवसादग्रस्त भी होता ही गया, ऐसे काल में मातृभाषा उन्नयन संस्थान के माध्यम से राष्ट्रीय कवि मुकेश मोलवा के फेसबुक पृष्ठ पर नवोदित […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।