पहले मैं किताबें पढ़ता थाl पलटता था पन्ने सफेद काले कभी मटमैले से, नींद में भी उनींदा-सा पढ़ता था। होते थे उसमें राजा-रानी के किस्से और महल में चलते षड्यंत्र, राजकुमारी और राजकुमार करते थे प्रणय निवेदन भी, पहले मैं किताबें पढ़ता थाl उत्तुंग शिखरों से सज्जित भारत माँ […]

कभी लोगों ने तड़पाया, कभी रोगों ने तड़पाया, कभी धनवानों ने रौंदा, कभी नेता ने धमकाया। कभी दिल में उठी सच बात को उसने नहीं रोका, इन्हीं सच्चाइयों ने तो उसे बढ़ना ही सिखलाया। वो बढ़ने फ़िर लगा आगे, किसी दीवाने के जैसे, ये दुनिया छोड़िए अपनों से भी पागल […]

वे वे अमीर हैं, रहने दो उन्हें अमीर करदो कैद उन्हें उनकी अमीरी के साथ। मत घूमो उनके चारों ओर उनकी पानी,कोक,बीयर, व्हिस्की की पुकार को गूंजने दो। अमीरी के महल में, पड़ी रहने दो खाली बोतलें, गंदे चादर, झूठी प्लेंटे,घूरा बनी डाइनिंग, जमीन पर सफेद और लाल दाग बने […]

 ‘जिद’ शब्द की परिभाषा  यानी बिना विवेक के जो मांग की जाती है,और उसकी पूर्ति तत्काल हो जाए ,तो वह जिद है। बच्चों में विवेक की कमी होती है और मांगी गई वस्तु उसी समय चाहते हैं। न मिले तो जिद अपने सक्रिय रुप उपद्रव में बदल जाती है, लेकिन […]

2

`क्या साबित करना चाहते हो आखिर… पुरूषों को, चूड़ियाँ भेंट करके…..?` कायरता, नाकारापन,या कमजोरी का प्रतीक मानते हो….? भूल गए क्या…माँ…दादी के हाथ की, वो हरी काँच की चूड़ियाँ….? जो चूल्हे की आँच में तपकर, हो जाती थी..और मजबूत। रोटी थेपकर खेत भी खोद लेते थे, वो चूड़ी भरे हाथ….। […]

1

(आज मातृ दिवस के अवसर पर विशेष ) माँ का हृदय रत्नाकर-सा, माँ तारापथ समान है। माँ की जान बसे बच्चों में, माँ बच्चों की जान है।। माँ खुशियाँ संग मनाती है। माँ मिश्री-सी,लोरी सुनाती है।। माँ गलती पर बच्चों को डाँटती है। माँ अपना दुःख न बाँटती है।। माँ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।