पश्चाताप(लघुकथा)

1 1
Read Time3 Minute, 45 Second

sukshama

नारंग साहब के घर कन्या भोज चल रहा था। छोटी-छोटी कन्याओं को प्रेमपूर्वक भोजन करवाकर उनके पैर पूजे जा रहे थे। तभी मैं भी अपनी बेटियों के साथ वहाँ पहुंची। सभी बच्चियाँ खाने मे मशगूल थी। नारंग जी की बड़ी बहू खाना परोस रही थी। मैंने श्रीमती नारंग से पूछा-आज छोटी बहू कहां गई, दिखाई नहीं दे रही, प्रेग्नेंट है न वो?
मिसेस नारंग ने जरा पास खसककर इधर-उधर देखा..थोड़ा खखारकर बोली–’क्या बताऊँ ! घर की बात है किसी से कहिएगा मत,उसे फिर से लड़की थी। 3 महीने का अबॉरशन करवा दिया। अपनी माँ के यहाँ गई है आराम करने।’
मुझे लगा किसी ने घड़ों पानी ढोल दिया हो मुझ पर…हतप्रभ रह गई उनके कन्या पूजन के ढकोसले पर। बहुत क्षोभ से भर गई कि, ऐसे घर क्यों ले आई अपनी बेटियों को? दम घुटने लगा था वहां मेरा।
थोड़ी देर बाद श्रीमती नारंग ने मुझसे पूछा–’आप कन्या भोज नहीं करवाती?
जी में आया कि, कह दूँ कि नहीं मैं इन ढकोसलों के बजाय कन्याओं को घर में ही सम्मान से जन्म लेने-देने में विश्वास करती हूँ। मेरे लिए कन्या पूजन का यही अर्थ है किन्तु पड़ोसी धर्म की खातिर कुछ कह तो नहीं पाई। न में गर्दन हिलाकर ही चुप हो गई,किन्तु पश्चाताप स्वरूप मन ही मन संकल्प लिया…..फिर कभी अपनी बेटियों को उनके घर नहीं भेजूँगी कन्या भोज के लिए…।

                                                                               #सुषमा दुबे

परिचय : साहित्यकार ,संपादक और समाजसेवी के तौर पर सुषमा दुबे नाम अपरिचित नहीं है। 1970 में जन्म के बाद आपने बैचलर ऑफ साइंस,बैचलर ऑफ जर्नलिज्म और डिप्लोमा इन एक्यूप्रेशर किया है। आपकी संप्रति आल इण्डिया रेडियो, इंदौर में आकस्मिक उद्घोषक,कई मासिक और त्रैमासिक पत्र-पत्रिकाओं का सम्पादन रही है। यदि उपलब्धियां देखें तो,राष्ट्रीय समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में 600 से अधिक आलेखों, कहानियों,लघुकथाओं,कविताओं, व्यंग्य रचनाओं एवं सम-सामयिक विषयों पर रचनाओं का प्रकाशन है। राज्य संसाधन केन्द्र(इंदौर) से नवसाक्षरों के लिए बतौर लेखक 15 से ज्यादा पुस्तकों का प्रकाशन, राज्य संसाधन केन्द्र में बतौर संपादक/ सह-संपादक 35 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है। पुनर्लेखन एवं सम्पादन में आपको काफी अनुभव है। इंदौर में बतौर फीचर एडिटर महिला,स्वास्थ्य,सामाजिक विषयों, बाल पत्रिकाओं,सम-सामयिक विषयों,फिल्म साहित्य पर लेखन एवं सम्पादन से जुड़ी हैं। कई लेखन कार्यशालाओं में शिरकत और माध्यमिक विद्यालय में बतौर प्राचार्य 12 वर्षों का अनुभव है। आपको गहमर वेलफेयर सोसायटी (गाजीपुर) द्वारा वूमन ऑफ द इयर सम्मान एवं सोना देवी गौरव सम्मान आदि भी मिला है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अरमान मिला..

Wed Mar 1 , 2017
सौ अरमान देखे,तब जाकर एक अरमान मिला, उम्मीदों की कश्ती में बहकर वो फरमान मिला। अब क्या घबराना ऐसे इन आंधी और तुफानों से, मौत भी आ जाए तो पलटकर वो जंहान मिला। उम्मीदों का सफर फिर उन्हीं रास्तों पर ले चला, कयामत से गुजरकर तकदीर को, वो ईमान मिला। […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।