आँख का पानी…

1
Read Time2Seconds
har bhagvan
काश कोई मुझको अपना तो कहता,
आँख का पानी फिर यूँ नहीं बहता।
साथ चलने को उम्रभर किसने कहा,
कुछ कदम गर साथ कोई चल देता। आँख का…॥
फूल मुबारक पास जिनके वो रखें,
काँटों का भी हक़ ज़रा कोई देता।
आँख का…॥
हस रहा हूं यूं तो हंसने के लिए,
होता कोई ज़ख्म जिसे दिखला देता।आँख का…॥
थक गया हूं ढूंढते अब राह को,
होता कोई जो रास्ता बतला देता।
आँख का…॥
शिकवा नहीं है और न ही गिला किसी से,
सुनता कोई तो थोड़ा हाले दिल,सुना देता।
आँख का पानी फिर यूं नहीं बहता।

                                               #हर भगवान शर्मा

परिचय : हर भगवान शर्मा की जन्मतिथि-अक्टूबर १९५६ तथा जन्म स्थान-रामगढ़-अलवर (राजस्थान)है। आपका पैतृक स्थान-दिल्ली है,जबकि फिलहाल शहर-टोरंटो-कैनेडा में निवास है। शिक्षा में बी.कॉम.के साथ ही एम.ए., जनसंपर्क में स्नातकोत्तर डिप्लोमा सहित पत्रकारिता में भी उपाधि ली है। कार्यक्षेत्र में आप न्यूयॉर्क(अमेरिका) में बैंक में मुख्य प्रबंधक रहे हैं। वर्तमान में टोरंटो में भी एक संस्था में प्रबंधक हैं। सामाजिक क्षेत्र में संस्थापक हरि मंडल कैनेडा,सुंदरकांड पाठ व भजन संध्या द्वारा एकत्र धन को नेत्रहीन बच्चों की पढ़ाई के लिए उपयोग करना सहित 16 वर्ष से सदस्यों के साथ सेवा में समर्पित हैं। आपकी पसंदीदा विधा-हास्य है,इसलिए आप हास्य व्यंग्य की रचनाएं अधिक लिखते हैं। सम्मान यही है कि,नार्थ अमेरिका में ‘लाफ्टर ब्रिगेड’ के नाम से आपको जाना जाता है। लेखन का उद्देश्य-मनोरंजन और सामाजिक जागरुकता फैलाना है। 

0 0

matruadmin

One thought on “आँख का पानी…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

योद्धा

Wed Dec 20 , 2017
धरा-गगन के बीच पसरता… जो अनंत आकाश, सत्य-संध शायक बेधता है … उसको बन पुंज प्रकाश। पुण्य धरित्री-धरा-धर्म हित, जो प्राणार्पण करते हैं; सकल छद्म,षडयंत्र समर कर, महाप्रलय सम भिड़ते हैं। शूर नहीं,भिक्षुक होते हैं… कभी विजय-जीवन के। वरते स्वयं स्वयं-जय को… निज भुज-बल से वीरों के। सकल मनुजता की […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।