चंचलता

0 0
Read Time2 Minute, 36 Second

cropped-cropped-finaltry002-1.png
चितवत चकित चारू चित चंचल,
अकथ अलौकिक अदभुत अंचल
चहुंदिशि चितवत चितवनि चंचल,
घूंघट पट तर दृग-मृग चंचल,

चंचल वारि पवन अति चंचल,
चंचल शुद्ध सरस सरिता-जल
पीपर-पात सदृश मन चंचल,
जीवन भर चंचल दृग-अंचल।

दिव्य रश्मि रथ रवि का चंचल,
चंचल कवि की कविता चंचल
हिरणी जैसी काया चंचल,
ज्यों श्री हरि की माया चंचल।

बचपन चंचल यौवन चंचल,
पल-पल पलटत मौसम चंचल
काल चक्र-सा जीवन चंचल,
धरती के संग उपवन चंचल।

चारु चंद्र की गति अति चंचल,
अहा अप्रतिम अलि गति चंचल
मदन मयंक मनुज मन चंचल,
नृत्य लुभावन कटि तन चंचल।

अचल अटल अम्बर नभ अंचल,
नहि हरि कृपा बिना जग चंचल
चपला चपल चमंकति चंचल,
हरि माया हरिहर से चंचल।

अचल प्राण बिन नर तन चंचल,
अचल ज्ञान बिन नर मन चंचल
प्रेम रहित नर दृष्टि अचंचल,
ईश कृपा बिन सृष्टि अचंचल।

रति बिन पति नहि बसै हृदय तल,
प्रेम वारि बिन हटै न मन मल
प्रेम भक्ति की शक्ति सुमंगल,
प्रेम करे जग जीवन मंगल।

प्रेम से होय सरल मन चंचल,
फूले-फले धरा को अंचल
देहिं अचल तरू सबहिं मधुर फल,
प्रेम से चले सकल जग चंचल॥                            

                                             #दिलीप कुमार सिंह

परिचय:दिलीप कुमार सिंह का साहित्यिक उपनाम-डीके है। जन्मतिथि १५ दिसबंर १९७९ तथा जन्म स्थान खमनखेरा(उ.प्र.)है। वर्तमान में आपका निवास ग्राम खमनखेरा(पोस्ट रामनगर परीवां) तहसील हैदरगढ़ (जनपद बाराबंकी) उत्तर प्रदेश है। उत्तर प्रदेश राज्य के शहर बाराबंकी(लखनऊ) से रिश्ता रखने वाले श्री सिंह की शिक्षा- परास्नातक(अंग्रेजी साहित्य ) सहित बी.एड.,यू.पी.टी.ई.टी. और विशिष्ट बीटीसी भी है।कार्यक्षेत्र-उत्तर प्रदेश और पेशे से सामाजिक क्षेत्र में शिक्षक हैं। आपकी नज़र में लेखन का उद्देश्य-साहित्य सेवा, जनजागरण व राष्ट्रसेवा है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

गजल

Thu Nov 16 , 2017
सूर्य को दीपक दिखाया जा रहा है, कद अंधेरे का बढ़ाया जा रहा है। उसकी हालत देखकर आया हूँ मैं, दूध चम्मच से पिलाया जा रहा है। जैसे कोई भेड़ बकरा मर गया , इस कदर मातम मनाया जा रहा है। रो रहे मुर्दे पड़े शमशान में, आदमी जिंदा जलाया […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।