गुरव शिव पुजारी ! राजेश शर्मा की कलम से….

Read Time0Seconds
cropped-cropped-finaltry002-1.png
शिव की सेवा पूजा कर अपना जीवन यापन करने वाला गुरव पुजारी कहलाया है, शैवधर्म का पालन करने वाला गुरव कहलाया है । नित सर्व प्रथम शिव का स्मरण करना ओर शिव को ही भजना, जपना ओर शिव को ही अपना सर्व जीवन समर्पित करना यह गुरव कर्म है। यही शैव धर्म है। हमारी संस्कृति में दो धर्म है शैव ओर वैषनव। शैव लोग को शिवजी को और वेषनव  विष्णू जी को पूजते है।
हम सभी गुरव लोग जो है जो जितने भी गुरव बंधु है सभी शैव धर्मी है। शैव पंथी है। ओर शिव ही हमारे सर्व है । शिव परिवार ही हमारा परिवार है।
विष्णुजी के सहित उनके  सारे अवतारों की पूजा विग्रह स्वरूप में की जाती है
ओर शिव को हम सभी ज्योतिर्लिंग के रूप में पूजते है ।
शैव धर्म को मानने वाली, शिव  को पुजने वाली शैव धर्म का पालन करने वाली जाती है
,गुरव जाती ,  शैव धर्म ही गुरव का मूल धर्म है और अगर अपने आप को शैव कहता है तो यह भी सम्मान वाली बात है गुरव के लिए ।जिसके लिए शिव ही सर्व होता है । वो ही शैव है।प्राचीन समय से शिव मंदिरों की सेवा पूजा का कार्य जिस जाती को  सौंपा गया था वो सभी शिव पुजारी कहलाते थे। उनमें से हमारी गुरव जाती भी शामिल
है ओर वो सारे अधिकार आज भी गुरव समाज के पास सुरक्षित है । इसका प्रमाण भी है के देश के कुछ ज्योर्तिलिंगो में गुरव पुजारी आज भी नियुक्त है । घुस्मेश्वर, भीमाशंकर, बैधनाथ, सहित देशभर में  आदि ओर भी मंदिर है जहां गुरव  पुजारी आज भी पूजा सेवा करते है और सरकारी नियुक्ति में है । शिवालय में शिवजी के ऊपर जो भी सामग्री चड़ाई जाती है उसको शिव निर्मल्या कहते है उसको ग्रहण करना या उस पर जिसका प्रथम अधिकार बनता है वो भी शैव धर्मी गुरव का पहला अधिकार बनता है ।  कन्नड भाषा में गुरव को गुरवन कहा जाता था समय के साथ क्षेत्र ओर भाषा के बदलाव में आज गुरव कहलाता है।  ओर गुरव पुजारी प्राचीन काल से शिव मंदिरों की सेवा पूजा करते आ रहे है। गुरव की सेवा अनेकों रूप में शिव मंदिरों में रह कर शिव जी तक पहुंचती है।  जिसमें वो मंदिर को साफ सफाई करता है , शिवजी के साथ पूरे शिव परिवार की  मूर्तियों को भी नहलाता है, वस्त्र आभूषण से सजाता है, कुमकुम चन्दन से सारी मूर्तियों को संवरता है ,फूल बेल पत्र से सजावट करता है,फिर धूप दीप से आरती करता है  नैवेद्य भोग लगाता है, ओर साथ ही संगीत बजाता है भजन गाता है  वाद्य यंत्र बजाता है, इस प्रकार अनेकों रूपो के साथ अपनी सेवा शिव मंदिर में करता आया है । साथ ही शिवकथा,  शिव भजन,ओर शिव महात्म का वाचन करना भी गुरव कर्म है।
भोर से संध्या तक शिवालय मे ही रहना और
दिनभर भर में जो चड़ावा ओर सामग्री भेली होती उससे अपना जीवन यापन करना ही गुरव का कर्म ,धर्म रहा है।
समय का बदलाव ओर परिवार की बड़ती संख्या ओर उनकी जरूरतों की पूर्ति हेतु गुरव को अपने मूल कर्म के साथ कुछ अन्य कार्य भी करने पड़े जिससे पारिवारिक खर्चों की पूर्ति हो  ओर फिर समय के साथ साथ हर क्षेत्र में गुरव आगे बड़े और आज देश भर में
कोई सरकारी नोकरी में है कोई व्यापारी है पुलिस विभाग में है कोई राजनीति में भी उच्च पद पर है कोई संगीत के क्षेत्र में है डाक्टर, वकील, सहित  सभी विभागों में हर क्षेत्र में गुरव लोग है  यही कारण रहा है के अनेकों क्षेत्रों में कार्य में लगने से गुरव अपने मूल कर्म से कहीं कहीं दूर भी होता गया और इस कारण से पूरे देश में गुरव लोग अपनी अपनी सहूलियत के हिसाब से बस गए कर्नाटक ,आंद्रा, से लगाकर महाराष्ट्र, गुजरात,तमिलनाडु,केरल,मध्यप्रदेश,छत्तीसगढ़,राजेस्थन,सहित पूरे देश में गुरव जाती बसती है । ओर सभी अपने अपने क्षेत्रों में
कहीं कोर्णाक गूरव, कहीं लिंगायत गुरव, कहीं शैव गुरव, कहीं जिंझर ,कहीं हंगर,जुन्नर  गुरव, ओर आदि नाम से अपनी अपनी पहचान  के साथ रह रहे है । और पूरे देश भर में गुरव समाज निवास करता है।ओर एक बात जब जाती सम्बन्धित परिचय जब देना होता है तब हर बंधु गुरव पुजारी के नाम से पहचाने जाते है ।जब जब भी गुरव जाती पर मेरी किसी भी बंधु से चर्चा हुई चाहे वो समाज के इतिहास के संबंध में हो या जाति सम्बन्ध में हो या अन्य किसी भी विषय पर  सभी से  बातो में  हर समय एक ही बात उभर कर आती है के गुरव शिव पुजारी है। शिव ही गुरव के भगवान है शिव पूजा ओर सेवा  ही गुरव  का मूल कर्म है
पिछले कुछ सालों में मैने जितना पड़ा, सुना, समझा,जाना, परखा, पूछा, ओर अनेकों बंधुओ से चर्चा कर जो समझा वो सारा निचोड़ केवल यही निकलता है के गुरव जाती शिव को पूजने वाली पुजारी कर्म को करने वाली शैव संप्रदाय का पालन करने वाली शिव पुजारी कहलाने गुरव समाज है जिसको सारे देश में गुरव पुजारी कहा जाता है।
यही गुरव का सही शास्त्र है ।
मूल और इतिहास की जानकारी हेतु देश भर में कुछ लोग कार्य कर रहे है कुछ बंधुओ ने अपने पास जो जानकारी थी उसको एक पुस्तक का रूप देकर तेयार भी किया है । यह उनका अच्छा प्रयास और कार्य है जिसके लिए वो बधाई के पात्र है।लेकिन उसको ही पूर्ण मानना भी कहीं न कहीं  संतुष्टि नहीं है सदियों पुरानी संस्कृति को सदियों पुरानी परम्पराओं को कोई भी  मानव चंद पन्नों में समेटकर यह सिद्ध नहीं कर सकता है के यही पूर्ण जानकारी या इतिहास है । या यही गुरव का सही शास्त्र है । जिस किसी बंधुओ ने गुरव पर जो भी लिखा है वो पूर्ण नहीं हो सकता है हा कुछ जानकारी मात्र हो सकता है । अगर कोई कहता है के मेरा लिखा ही पूर्ण इतिहास है तो मेरा यह निवेदन है के ओर कार्य करे जिससे सभी को पूर्ण ज्ञान प्राप्त हो । ऐसा में मानता हूं। क्योंकि जिस परम्परा को जिस संप्रदाय को सदियों से शिव से ही जुड़ा हुआ पाया है जिसका मूल कर्म मूल धर्म शिव सेवा ही है उसकी जानकारी मात्र हमारे पास यही है के हम सभी गुरव लोग शिव के पुजारी है ।ओर आज के इस दौर में हर क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा हो तो हमे सारी जातिगत विवादित चर्चा को छोड़ कर में क्या तू क्या को छोड़ कर हम सभी गुरव है को में कर समझ कर एक। मनभाव के साथ जुड़ कर चलना चाहिए ।  ओर हमारी सामाजिक एकता और आपसी प्रेम पूर्ण संबंध ही सच्ची शिव पूजा ओर सच्ची शिव भक्ति होगी । हम जिस संस्कृति के है जिस परम्परा से है वहीं  संपूर्ण है वहीं पूर्ण है वहीं प्रारम्भ है वहीं अंत है हमारी संस्कृति की अनेकों कथाएं है अनेकों प्रसंग है जिसको कोई भी एक ना  तो कह सकता है ना ही कोई चंद पन्नों में लिख सकता है लेकिन समय के साथ साथ अनेकों रूपो में अनेकों जानकारी इस संसार को मिलती रही है ओर अनेकों प्रसंग भी ऐसे है जो कुछ कुछ लोग ही जान पाए है ।हमे भी बहुत सारी प्राचीन जानकारियों का आज तक पता नहीं है कुछ जानकारियां हमारे पूर्वजों के साथ ही रह गई   जो आज हमारे पास है उनमें से भी बहुत सारी बाते तो हम आने वाली पीढ़ी को देंगे लेकिन वो इसको आगे बढाते है या नहीं कोई नहीं कह सकता ओर इस तरह से इस संसार में केवल उस परमात्मा के सिवाकोई भी नहीं है कि पूर्ण हो । इसी तरह से ही गुरव इतिहास भी बहुत प्राचीन ओर पारम्परिक है जिसको चंद पन्नों की किताब में समेटकर पूर्ण हो ही नहीं सकता है गुरव सम्बन्धित कुछ जानकारी मात्र कहना सही है । क्योंकि अधूरा ज्ञान बडा नुकसान होता है और जो उस अधूरे ज्ञान को ही पूर्ण करने में लग जाते है वो समाज को नुकासन पहुंचाते है । ओर हमारे साथ भी यही हुआ है जिसकी बंधु के पास कुछ मात्र जानकारी है वो उसको ही मूल बता के गुरु सिद्ध होना चाहते है और बिना प्रमाण के हर जानकारी व्यर्थ ही होती है । जिससे समाज को नुकसान होता है आपसी मन मुटाव बड़ता है संबंधों में खटास होती है ।
मेरे द्वारा भी जो आपको बताया गया है वो भी जानकारी मात्र ही समझे आप सभी क्योंकि पूर्ण इतिहास और मूल पर अभी कार्य जो रहा है और पूर्ण  तो केवल शिव है और हम सभी उसको पूजकर भजकर जपकर अपनी जीवन यात्रा को शिव भक्ति में पूर्ण कर सकते है
राजेश शर्मा उज्जैन,
4 5

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

*भ्रष्टाचार*

Mon Sep 24 , 2018
.              व्याप रहा  संसार में, सब  जन  भ्रष्टाचार। ढूँढे से मिलता नहीं,अब जग सदआचार।। गली हाट बाजार में,दफ्तर अरु चपरास। भ्रष्ट सभी जन हो रहे, रिश्वत तेरी आस।। अधिकारी नेता बड़े, डाक्टर साहूकार। पटवारी राजस्व तो ,हैं  सबके सरदार।। मंत्री  अरु सांसद  बने, भ्रष्टाचारी  जीव। पद से ये हट जाए […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।