मेरे अक्स वाला टुकड़ा

Read Time7Seconds

shashi sinh
ढूँढ रही हूँ खुद को टुकड़ों-किरचों में,
ज़िन्दगी टूटकर यूँ बिखरी है।
कुछ में घर-आँगन का अक्स है,
जिन्हें सजाने में तमाम उम्र गुजार दी।
सब हैं पेड़-पौधे,फुलवारी,
यहाँ तक मुंडेर पर बैठे परिन्दे भी।
दूर-दूर तक के रिश्ते नाते भी,
और कर्मों के बही खाते भी।
रौनकें भी हैं,तो गुरबतें भी,
कालचक्र की छोटी-बड़ी हरकतें भी।
दूधवाला,अख़बारवाला,कूड़ेवाला,
सब ही हैं,कहीं-न-कहीं।
आती-जाती गाड़ियों का शोर,
और विक्रेताओं की भीड़ भी है यहीं।
भागती-दौड़ती ज़िन्दगी की तस्वीरें हैं
हर किसी के सपनों की ताबीरें हैं।
पर वो किरच अभी तक नहीं आया हाथ,
जहाँ से मैं नज़र आऊँ।
मैं कहाँ हूँ इनमें ?हूँ भी या नहीं?
कोई अस्तित्व भी है मेरा?
या अब तक अहसास बनकर ही रही ?
मुझे देखना है खुद को,खुद के बदलावों को।
कि कैसी दिखती हूँ ज़िन्दगी की दौड़ में चलते-भागते?
कहीं सुनने की काबिलियत तो,
नहीं चली गई विक्रेताओं के शोर से?
स्याह तो नहीं हो गई गाड़ियों के धुँए से?
पैरों में छाले तो नहीं उभर आए भागते-दौड़ते?
हथेलियाँ दरारों से तो नहीं पट गईं,
लोगों के सपने पूरते?
मुझे देखना है खुद को,पर क्या करुं,
वो टुकड़ा है भी कहाँ ज़िन्दगी का ?
किसी को मिले तो दिखा दो मुझको।
मुझे भी अक्स देखना है खुद की मौज़ूदगी का।

                                                                #शशि सिंह

परिचय:शशि सिंह का निवास उत्तर प्रदेश राज्य के शाहजहाँपुर में हैl आपकी जन्मतिथि-१ सितम्बर १९६९ तथा जन्मस्थान-बहराईच(उत्तरप्रदेश) हैl शिक्षा बी.एस-सी. सहित बी.एड. और एम.एड. भी हैl शशि सिंह का कार्यक्षेत्र विज्ञान शिक्षिका (आधार शिक्षा) हैl सामाजिक क्षेत्र में शाहजहाँपुर शहर की कुछ संस्थाओं से जुडकर बालिकाओं की शिक्षा व उन्नयन हेतु सक्रियता से प्रयासरत हैं। लेखन में आपकी विधा-कविता,कहानी,संस्मरण,लेख एवं यात्रा वृतान्त हैl कई पत्र-पत्रिकाओं में आपकी रचनाएं प्रकाशित हुई हैंl आपके लेखन का उद्देश्य-आत्म संतुष्टि व सामाजिक परिवर्तन लाना हैl 

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आँसू

Mon Oct 30 , 2017
दुःख दर्द भी जिसका मजा लूट रहे हैं, वही आँसू आज मोती बनकर छूट रहे हैं। रिश्तों की खनखनाहट है और टूटने का डर, बचाने के लिए आँखों से आँसू फूट रहे हैं। होंठ पड़े हैं निःशब्द पूछने के लिए क्या हुआ? करीब जाने का रस्ता ढ़ूढ़ रहे हैं। जीवनभर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।