गरीब लड़की

0 0
Read Time2 Minute, 14 Second

tarun kumar

उसने कभी जीने की मिसाल नहीं देखी,
जिंदगी किसी कोने से खुशहाल नहीं देखीl
छुपाती रही इज्जत फटे कपड़ों की गुदड़ी में,
उस लड़की ने सही-सलामत रुमाल नहीं देखीl
लड़ते देखा है कुत्तों से बासी रोटी के पीछे,
गहरा काला निशां है उसकी आँखों के नीचेl
भूख से तिलमिलाती गुर्रा देती है अक्सर,
त्योहार देखे हैं,पर त्योहारों की थाल नहीं देखीl
उसने कभी जीने की…ll
उसे न इल्म रूह का,न वजूद का पता,
बे-गैरत मुफ़्लियत की भुगतती सजाl
फटे होंठों की खुरंट से वो कहेगी क्या,
सूनी आँखों ने खुशियाँ ख्वाबो-ख्याल नहीं देखीl
उसने कभी जीने की…ll
उसे क्या ख़बर हिन्दुस्तान किधर है,
मज़हब है कौन-सा,उसका नाम किधर हैl
ख़ामोश शक्ल की बेदखल तस्वीर-सी वो,
काली कुदरत में अरमानों की जमीं लाल नहीं देखीl
उसने कभी जीने की…ll
सुबह जगा देती है गाड़ियों की आहट,
रोशनी फुटपाथ की बन चुकी है आदतl
शोरगुल में पली वो आज पत्थर बनी,
उसने यौवन के फूलों की डाल नहीं देखी।
उसने कभी जीने की…ll

किसी दिन बेसुध छोड़ देगी जमीं को,
आवारा कुत्ते ही समझेंगे उसकी कमी को।
दुनियावाले क्या जानेंगे कौन थी वो,
रंगीन चश्मों ने कभी धूप बेहाल नहीं देखी।
उसने कभी जीने की मिसाल नहीं देखीll

#तरुण कुमार सिंह

परिचय: तरुण कुमार सिंह लेखन में उपनाम-कविराज तरुण लगाते हैंl आपका निवास लखनऊ(उत्तर प्रदेश) के कानपुर मार्ग पर एलडीए कॉलोनी में हैl आपका कार्यक्षेत्र राजस्थान के लाड़नूं में यूको बैंक में सहायक प्रबन्धक का हैl आपको लिखने का काफी शौक हैl

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पैंजनिया

Mon Sep 4 , 2017
शाम को रक्कासा के पग में जब पैंजनिया सजती हैं, और दौराने रक्स वो कैसी छम छम छम सी बजती हैं। तब मयकश है नोट लुटाते,वाह वाह वाह कहकर, और वासनामय नजरों में हुस्न को सारा ही भरकर। मैंने पूछा रोज क्यूं इनके विष दंतों को सहती हो, रोज़ शाम […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।