हिंदी भाषा और भारतीय संस्कृति को बचाने में सहायता कीजिए

0 0
Read Time4 Minute, 43 Second


(ओमान से एक हिंदी शिक्षक की गुहार)

कवरिंग लेटर :– जैसे मैं पहले लिख चुका हूँ सीबीएसई से सम्बद्ध इंडियन स्कूल निजवा ओमान से हिन्दी भाषी हिन्दी शिक्षक – शिक्षिकाओं को षड्यंत्र करके हंटाकर हिन्दी भाषा को कमजोर किया जा रहा है। ये बातें लिखने पर स्कूल वाले जेल में बंद करवा देने की धमकियाँ दे रहे हैं। हिंदी भाषा और भारतीय संस्कृति को बंचाने में सहायता कीजिए।

1 अप्रैल को अम्बेसडर साहब ने मुझे मिलने का समय दिया था। निज़वा से मिलने के लिए हम दोनों गये थे पर अचानक सर की कोई मीटिंग आ गई तो पूरी बात नहीं हो पाई। उन्हें बताना चाहता हूँ :– निज़वा की समस्या के लिए जिम्मेदार प्रिंसिपल जॉन डोमनिक प्रिंसिपल के लायक योग्यता – अनुभव नहीं रखते हैं। प्रेसिडेंट नौशाद काकेरी कम पढ़े – लिखे छोटे बिजनेस मैन हैं, जिनके बच्चे लगभग 2 साल पहले ISN से टीसी ले चुके हैं। ऐसे अरुण प्रसाद और मुफीद साहब भी प्रिंसिपल की संकुचित धारणा के समर्थन के लिए कमेटी में हैं — इन्हीं सबसे तंग आकर अत्यंत अनुभवी और योग्य पुराने प्रेसीडेंट डॉक्टर जुनैद – अनुपमा मैम और फरकत उल्लाह सर कमेटी से रिजाइन कर दिया है। (उन्होंने कई बार प्रिंसिपल की समस्याओं को BOD में भेजा था, पर कोई सुनवाई नहीं हुई।) – डॉक्टर जुनैद की कमेटी के सभी लोग, जब वो लोग कमेटी चला रहे थे, टीचर्स के निवेदन पर HOD – Incharges को बदलने की बात की थी, पर प्रिंसिपल ने किसी की बात नहीं मानी और पब्लिकली सभी स्टाफ के सामने मना कर दिया। आज उन्हीं अयोग्यों की टीम बनाकर प्रिंसिपल सर राजनीति कर रहे हैं —

प्रिंसिपल के आने से पहले ISN में रियाल्स की कमी नहीं रहती थी – बोर्ड में बच्चे फेल नहीं होते थे सब मिलकर काम करते थे। मेरे मेंटर फहीम सर हैं पर आज प्रिंसिपल मेरे बारे में against the community का झूठा प्रचार करते हैं क्योंकि सबसे जूनियर अपेक्षाकृत अनुभवहीन रूना फातिमा को हिन्दी एचओडी कैसे बनाए हैं – मैंने ये प्रश्न कर दिया था – ये निवेदन दिसंबर 2019 में ऐम्बेसडर साहब से मिलने पर और पुराने प्रिंसिपल – प्रेसीडेंट को भी भेजा था तब तो ये प्रश्न इस श्रेणी में नहीं आया था ? — जिससे सभी दुखी हुए पर प्रिंसिपल के साथ पूरा बीओडी ऑफिस है ये सोचकर सभी चुप रह गए। बोर्ड रिजल्ट्स जो कि इस बार का सबसे खराब आया है, स्कूल में लगाया जाए ऐसे निर्देश को जो कि उस समय के अकेडेमिक कोऑर्डिनेटर अनुपमा मैम ने सुझाव दिया था, उनकी बात भी प्रिंसिपल ने नहीं मानी थी। इसलिए अनुपमा मैम ने दुखी होकर रिजाइन कर दिया।

2015 में मेरे ज्वाइन करने के बाद 7 हिन्दी शिक्षक – शिक्षिकाएँ थीं। डॉक्टर अशोक कुमार तिवारी, हिन्दी विभागाध्यक्ष, सुनंदा तिवारी , शोभा मैम , हिना आलम, प्रियदर्शिनी मैम, प्रमोद तिवारी, रूना फातिमा ( रूना फातिमा के अतिरिक्त सभी गैर मलयाली थे। आज केवल रूना फातिमा एकमात्र हिन्दी शिक्षिका ISN में बची हुई हैं। बाकी सभी को षड्यंत्र करके हटा दिया गया है ।) स्कूल के 53 टीचर्स तथा हिन्दी पढ़ने वाले बच्चों के पैरेंट्स के लिखित निवेदन पर भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। 25 फरवरी की इन्क्वायरी रिपोर्ट भी अभी तक नहीं आई है।

डॉ. अशोक कुमार तिवारी

matruadmin

Next Post

बादशाह चुप है

Sat Apr 17 , 2021
जीवन की चिंता किसे है अभी तो कुंभ चल रहा है यह भी सब जानते है , कही चुनाव चल रहा है सवाल न उठाओ उनसे वे अवसर के बादशाह हैं उन पर फ़र्क नही पड़ता कोरोना में कौन मर रहा है मरने पर मोक्ष मिलेगा सबको क्योंकि अभी कुंभ […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।