अलविदा … राहत इंदौरी साहब

Read Time0Seconds

इंदौर की शान था वह सबकी चाहत था
माँ भारती की करता वह इबादत था ।
कहता था पेशानी पर हिंदुस्तान लिख देना
गजलों का बादशाह वह राहत इंदौरी था ।।

शायरी मायूस हैं मुस्कराहट का ऐसा जादूगर था
वाह,वाह करते थे श्रोता ऐसा राहत इंदौरी था ।
किसी ने सोचा न था कि यूं छोड़ चलें जाएंगे
दिया मोहब्बत का पैगाम, वो राहत इंदौरी था ।।

शायरी से लोगो को मोहित कर देता था
दर्द बयां कर नेह को सरोवर कर देता था ।
काव्य पुत्र था वह,शायरी का सरताज रहा
देश का अभिमान था ,वो राहत इंदौरी था ।।
गोपाल कौशल
नागदा जिला धार म.प्र.

0 0

matruadmin

Next Post

निश्छल प्रेम

Wed Aug 12 , 2020
आख़िर तुम मुझे क्या दे पाओगे ज्यादा से ज्यादा अपराध बोध से भरी हुई अस्वीकृति या आत्मग्लानि से तपता हुआ निष्ठुर विछोह हालाँकि इस यात्रा के पड़ावों पर कई बार तुमने बताया था इस आत्म-मुग्ध प्रेम का कोई भविष्य नहीं क्योंकि समाज में इसका कोई परिदृश्य नहीं मैं मानती रही […]