लॉक डाउन का आंखो देखा हाल

0 0
Read Time2 Minute, 4 Second

सड़क सब सुनसान पड़ी है,
हर दरवाजे पर मौत खड़ी है।
हर इंसान अब परेशान है,
सबको अपनी अपनी पड़ी है।।

श्मशान में अब जगह नहीं है,
वहां पर भी लाईन लगी है।
कैसे जलाए इन सभी शवों को,
लकड़ी की भी कमी पड़ी है।।

अस्तपतालों में भीड़ लगी है,
मरीजों की लंबी लाईन लगी हैं।
बिस्तर भी नहीं है कोई खाली,
फर्शो पर लाशे नंगी पड़ी है।।

मंदिर मस्जिद भी बन्द पड़े हैं,
भगवान भी अंदर बन्द पड़े हैं।
ये कैसा उल्टा समय आया है,
दर्शन के लिए भगवान खड़े है।।

मयखानों में लंबी लाईन लगी हैं,
सबको नशा करने की पड़ी है।
यह पहली बार हमने देखा है,
औरतें भी लाईन में खड़ी है।।

काम धंधे भी सब बन्द पड़े हैं,
उद्योग धंधे भी सब बन्द पड़े हैं।
बेचारा मजदूर कितना परेशान है,
उसकी खाने के भी लाले पड़े हैं।।

रेले स्टेशनों पर बेकार खड़ी है,
यात्रियों से बिल्कुल खाली पड़ी है
कब चलेगा ये रेल का पहिया
सारी जनता जानने को खड़ी है।

न्यायलय भी खाली लडे हुए हैं,
न्यायधीश भी सोए पड़े हुए हैं।
जब से ऐसा हुआ सारे देश में,
सारे वकील भी रोए से खड़े है।।

सारे सिनेमा हाल बन्द पड़े हैं,
फिल्मी सितारे बेकार पड़े हैं।
कैसे होगा उनका अब गुजरा,
सोच में वे सब सारे पड़े हुए हैं।।

सरहदों पर फौजें तनी खड़ी है,
चीन और भारत में तनातनी है।
ये कैसा मुश्किल समय आया है,
जब चारो तरफ़ मुसीबत खड़ी है।

बताया लॉक डाउन का हाल मैंने
जो देखा है अपनी आंखो से मैंने।
इसमें में लेश मात्र झूठ नहीं है ,
इसमें कुछ न छिपाया है मैंने।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

matruadmin

Next Post

जीवन में सकारात्मक बदलाव लाएगी पुस्तक "जिंदगी न मिलेगी दोबारा"

Fri Jul 3 , 2020
पुस्तक :जिंदगी न मिलेगी दोबारा लेखक: शिखर चंद जैन प्रकाशक:प्रखर गूँज प्रकाशन,नई दिल्ली कीमत: 250/ मात्र शिखर चंद जैन हिंदी के उन बिरले लेखकों में से हैं जिन्होंने कलम को अपने जीवन यापन का साधन बनाया है । उन्हें सही मायने में कलमजीवी लेखक कहा जा सकता है। ऐसे समय […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।