स्त्री के मन का ख़्वाब…

Read Time2Seconds

काश! मैं इस नीरव आकाश तले
स्वतंत्र विचरण कर पाती

काश! यह निर्बाध समीर
मेरी देह को मृत्युंजयी स्पर्श दे पाता

काश! रात्रि की गोद में बैठ
गंगा लहरियों की स्वच्छंद जलक्रीड़ाएं
महसूस कर पाती

काश! चांद की चंचल चंद्रिकाएं
मेरे कपोलों से मनोनुकूल खेल पाती

काश! आकाश का शीतल मोती
मेरे मन को भी रोमांचक छुवन से भिगो पाता

काश! तिमिर- चांदनी की लुका- छिपी
वृक्षों के झुरमुट से पकड़ पाती

काश! ऊर्जावान ऊषा की लालिमा से
स्याह- सफेद जीवन को रंगीन बना पाती

काश! हवाओं – सा अधिकार मुझे भी होता
कि कैद जिन्दगी को इच्छित मोड़ दे पाती

काश! यह ‘ काश’ शब्द
हमारे जीवन से अतल खोह में विलीन हो जाता

किसमत्ती चौरसिया ‘स्नेहा’
आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश)

2 0

matruadmin

Next Post

गुरव समाज की महिलाओ ने स्वदेशी अभियान के तहत घर पर बनाया हर्बल सेनेटाइजर।

Wed Jul 1 , 2020
गुरव समाज की महिलाओं द्वारा घर पर ही हर्बल सेनेटाइजर बना कर उपयोग किया जा रहा है। अपने आसपास उपलब्ध बहुमूल्य निशुल्क साधनों से सबसे सस्ता, सुंदर और लाभदायक स्वदेशी स्वनिर्मित हर्बल सेनीटाईज़र बनाया जा रहा है। उन्हें यह प्रेणना प्रधानमंत्री जी के आत्मनिर्भर अभियान लोकल फ़ॉर वोकल से मिली […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।