नैत्री का बालप्रेम

3 0
Read Time3 Minute, 52 Second


वो प्रसिद्ध फिल्मी हीरोईन थी। अब उम्र हो चली और फिल्में मिलनी बंद होने लगी तो एक बड़ी राजनीतिक पार्टी में शामिल हो गयी और टिकट भी हासिल कर लिया।
बड़े नेताओं ने समझा दिया था-‘ तुम अपनी छवि वैसी ही रखना जैसी फिल्मों के किरदार में थी,बच्चों से बेहद प्यार।
गांव के बच्चों को उठाना, पुचकारना, प्यार करना, चाॅकलेट देना—सब तुम्हारे कायल हो जायेंगे’
वो हां करके प्रचार करने निकली।
दर-दर , गांव-गांव तेज धूप में जाना उसे किसी मुसीबत से कम नहीं लग रहा था।
गांव के एक नंगधड़ंग बच्चे को उठाया। बच्चे को उठाते ही दुर्गंध से उसे उल्टी आने लगी। जल्दी जल्दी बच्चे को नीचे उतारकर चाकलेट थमाकर कार में जा बैठी।
सेक्रेटरी से कोल्ड़्रींक मांगा, आधा पीया तब तक सेक्रेटरी ने पेस्ट्री दे दी। मैड़म भूख लगी होगी थोड़ा खा लिजिये।
खाकर आधी पेस्ट्री और आधी भरी कोल्ड़्रींक की बोतल बाहर उछाल दी और कार धूल उड़ाती दूसरे गांव चल दी। पीछे रह गये गांव के नंगधड़ंग भूखे बच्चे जो कोल्ड़्रींक की बोतल और पेस्ट्री के ड़िब्बे पर टूट पड़े।
#सुषमा व्यास ‘राजनिधि’

परिचय—–

नाम— सुषमा व्यास ‘ राजनिधि’
लेखिका, कहानीकार, कवियित्री, समीक्षक
शिक्षा- हिन्दी साहित्य में एम ए– मेरिट में स्थान प्राप्त

संप्रति– उपाध्यक्ष– विचारप्रवाह मंच
सदस्य– इंदौर लेखिका संघ, विश्व मैत्री मंच भोपाल, विश्वहिन्दी संस्थान कनाड़ा, शुभ संकल्प ग्रुप, तूलिका समाजसेवी संस्था।

1- देश के अनेक पत्र पत्रिकाओं में लेखन– वीणा, अनुगुंजन , स्वर्णवाणी, आलोकपर्व, पवनपुत्र, राईजिंग स्टेप अन्य
साहित्यिक पत्रिकाओं में कविता, कहानियां, आलेख प्रकाशित
2–पत्रिकाओं में हर माह नियमित धार्मिक लेख प्रकाशित
3–पप प्रदेशवार्ता ई पोर्ट में सफल नारी पर साक्षात्कार प्रेषित।
अब तक सफलतम 10 साक्षात्कार गूगल पर।
4– अनेक ई पोर्टल–
हिन्दी लेखनी ड़ाट काम
मातृभाषा हिन्दी
शुभसंकल्प ड़ाॅट काम
मैसेंजर आफ आर्ट
प्रदेशवार्ता
प्रतिलिपी
रचनाकार
स्टोरी मिरर

में समीक्षा, आलेख , कविता, कहानियां प्रकाशित।
5– आड़ियो और विड़ीयो के जरीये भी कहानी , कविता का प़सारण।
6– इंदौर लःखिका संघ की — अंगदान और राष्ट्रभक्ति पत्रिका में भी प्रकाशन।
7–शुभसंकल्प मंच के साझा संग्रह में भी लघुकथा और कविता प्रकाशित
8– इंदौर के अभिनव संस्था में सतत् 13 घंटे चलने वाले कार्यक्रम में कहानी पाठ
9– राष्ट्रीय पुस्तक मेले में काव्यपाठ
10- विचारप्रवाह लघुकथा संग्रह मे लघुकथा का प्रकाशन

पता– सुषमा व्यास
इंदौर ( म. प्र.)

matruadmin

Next Post

दहला

Fri Mar 20 , 2020
दो जोड़ी कदमों को पास आते देखा तो सड़क के कोने के चबूतरे  पर रखी रोटी और एक सिक्का सावधान हो गए। “देखना, अब ये झगड़ा करेंगे”सिक्के ने कहा तो रोटी ने सहमति व्यक्त की”,हाँ, हो सकता है ।  “बात मेरी हो रही है ,झगड़ा मुझे लेकर होगा,तुम्हे कौन पूछता […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।