कवि-लेखकों व पत्रकारों का सम्मान समारोह सम्पन्न

0 0
Read Time3 Minute, 23 Second

आगरा |

यूथ हॉस्टल (आगरा) के सभागार में बृजलोक साहित्य, कला, संस्कृति अकादमी व विश्वशांति मानव सेवा समिति के संयुक्त बैनर तले एक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया | जिसमें साहित्य, कला, समाज सेवा, पत्रकारिता जगत की प्रतिष्ठित विभूतियों को सम्मानित किया गया | कार्यक्रम में जनपद के महापौर नवीन जैन व वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. अमी आधार निडर, डॉ. शशी पाल वर्मा को मुख्य अतिथि बनाया गया और उन्हें शॉल, सम्मान पत्र, पुष्पाहार व मुकेश कुमार ऋषि वर्मा द्वारा रचित काव्य पुस्तक – काव्य दीप भेंट करके सैकडों महानुभावों की उपस्थिति में सम्मानित किया गया | बृजलोक अकादमी व विश्व शांति मानव सेवा समिति का संयुक्त बैनर तले वर्ष 2020 का यह प्रथम कार्यक्रम था | साथ ही देशभर के जिन कवि, लेखकों, पत्रकारों को सम्मानित किया गया वे हैं,

संजय कुमार सुमन (मधेपुरा-बिहार), हीरा वल्लभ शर्मा (दिल्ली), मनोरमा रानी (मुजफ्फरनगर, उ. प्र.), डॉ. ओमप्रकाश हयारण दर्द (झांसी – उ. प्र.), डॉ. सुशील कुमार त्यागी अमित (हरिद्वार – उ. ख.), के. एल. दीवान (हरिद्वार -उ. ख.), पंकज धर द्विवेदी (गोरखपुर – उ. प्र.), जी. आर. के. रेड्डी अमरजी (हैदराबाद – तैलंगाना), रविशंकर श्रीवास्तव (अयोध्या – उ. प्र.), षैजू के. (कोची-केरल), डी. के. भास्कर (मथुरा – उ. प्र.), यशपाल निर्मल (जम्मू), विश्वनाथ दास देहाती (पूर्णिया – बिहार), अतुल मल्लिक अनजान (पूर्णिया – बिहार), ओम प्रकाश गुप्त (मेरठ – उ. प्र.), जीतेन्द्र जीतांशु (कोलकाता -पं. बंगाल), तुमुल (भोपाल – म. प्र.), एम. एम. चन्द्रा (नई दिल्ली), डॉ. गुलाब चन्द्र पटेल (गांधीनगर – गुजरात), योगेश कुमार धीर पथिक (मेरठ – उ. प्र.), डॉ. राजू बिदाया (जोधपुर – राजस्थान), डॉ. सारिका जैन (गुना – म. प्र.), डॉ. सिकन्दर लाल (प्रतापगढ़- उ. प्र.), रघुराज सिंह कर्मयोगी (कोटा-राजस्थान), श्रीमती रश्मिलता मिश्रा (विलासपुर- छ. ग.), मुनीष कुमार वर्मा (बोकारो – झारखंड), डॉ. पतन रहीम खान (हैदराबाद – तैलंगाना), सलिल सरोज (गाजियाबाद – उ. प्र.) आदि |

कुलमिलाकर कार्यक्रम पूर्णतः सफल रहा | कार्यक्रम की सफलता का श्रेय जयकिशन सिंह एकलव्य, राकेश कुमार वर्मा, मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, एम. एस. निषाद के नाम रहा |

प्रस्तुति – कार्यकारी अध्यक्ष

matruadmin

Next Post

सिर्फ लाल

Sat Jan 25 , 2020
मेरी माँ ने एक बार कहा था , बेटे जहा गणतंत्र का झंडा , फहराया जाये , 26 जनवरी को , वहा ! उस जश्न मे मत जाना , उस झण्डे के नीचे मत जाना , ये सफेदपोश , उस झण्डे को दागदार कर दिये है , हर साल इसकी […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।