लोकतंत्र के वास्ते,खाली कर दो रास्ते!

Read Time5Seconds

hemendra

भारत दुनिया का चलायमान महान लोकतंत्र है। संसदीय प्रणाली इसकी मूल आत्मा और सांसद शरीर हैं, जिनके निर्वाचन की बागडोर विश्व के सबसे बड़े चुनावी निकाय भारतीय निर्वाचन आयोग के कंधे पर होती है,जिसे वह निष्पक्षता के साथ पर्यन्त निभाते आया है। चाहे वह चुनावी घोषण-पत्र में मुफ्त चीजों के वादों पर सख्ती हो,या आचार संहिता का उल्लंघन,मतदाताओं को हड़काने,उकसाने और नजराने की पेशगी करने वाले दलों व उम्मीदवारों पर कड़ी कार्रवाई सहित हर मामले में आयोग नीर-क्षीर बना रहा,किंतु राजनीतिक दलों को यह कतई रास न आया कि,चुनाव आयोग उन पर नकेल कसे। लिहाजा,ऐसे दलों ने गाहे-बगाहे राजनीतिक पैंतरेबाजी के लिए नए-नए हथकंडे आजमाना  शुरु कर दिया है। ईवीएम में पक्षपात का आरोप लगाते हुए आयोग की निर्वाचन प्रक्रिया पर ही प्रश्न चिन्ह खड़े कर दिए। बदतर जनता के फैसले को गले लगाने के बजाय हार का टीकरा जहान में सराही गई ईवीएम पर फोड़ते हुए मतदान मतपत्र से करवाने का बेसुरा राग अलापा। जैसे देश की चुनावी तंत्रिका ने ही इनकी नौका डुबोई हो। बावजूद आत्मचिंतन के स्वच्छ,लोकतंत्र के रास्ते में खलल न डालते तो बेहतर होता,न कि चुनावी फिजा को बेरंग करते हुए लूट-पाट,मारपीट और वोट के बदले नोट का कुत्सित खेल खेलते।
दरअसल,कमोबेश पराजय की बेला में संसद से सड़क तक विलाप का मिलाप करना देश को बेवकूफ बनाने के सिवाय और कुछ नहीं है। वाकई में गर छल हुआ होता तो,मतदाता शांत चित रहकर अपने जनादेश का अनादर न होने देते। इनकी खामोशी में ही सहमति झलकती है कि,इन्होंने किसे दुलारा है और किसे नकारा है। फिर क्यों तथाकथित मौकापरस्त हायतौबा मचा रहे हैं? क्या उन्हें मालूम है कि,किसने किस को मताधिकार दिया है? जब कुछ पता ही नहीं,तो माहौल खराब करने से क्या फायदा। इसी नफे-नुकसान की होड़ में जनतंत्र राजनीति का दल-दल बनता जा रहा है। हालात बद-बदतर न हो जाए,इसी इरादे से मत-मन को एकमतेन कहना पड़ेगा-स्वच्छ लोकतंत्र के वास्ते,खाली कर दो रास्ते! इसके अलावा कोई चारा नहीं है,क्योंकि लोकतंत्र से राजनीतिक दल हैं,राजनीतिक दलों से लोकतंत्र नहीं।
बहरहाल,वजूद को जिंदा रखने की कवायद में हालिया आर्थिक सुधार,चुनावी मुद्दों के विषय पर आयोजित एक सेमिनार में देश के मुख्य न्यायाधीश जे.एस.केहर ने बेबाकी से कहा कि-चुनावी वादे हमेशा अधूरे रह जाते हैं,जो कभी पूरे नहीं होते। लिहाजा,राजनीतिक दलों को इसके लिए जवाबदेह बनाया जाना चाहिए। राजनीतिक पार्टियों के घोषणा-पत्र में आर्थिक सुधार और सामाजिक न्याय के संवैधानिक लक्ष्य के बीच कोई तालमेल नहीं दिखता,बल्कि वह कागज का टुकड़ा बनकर रह जाता है। राजनीतिक दल चुनावी वादे पूरा न होने पर निर्लज्ज बहाने देते हैं और उसे सही ठहराते हैं। पार्टियां जो वादे करें,उन्हें निभाएं भी। सुप्रीम कोर्ट के दूसरे न्यायाधीश ने स्पष्ट तौर पर कहा कि-चुनाव में खरीदी-बिक्री की प्रवृति के लिए कोई स्थान नहीं है। चुनाव लड़ना कोई निवेश नहीं है। चुनाव प्रक्रिया अपराधमुक्त करनी होगी। लोग गुणों के आधार पर उम्मीदवारों को चुनें,न कि अवगुणों के आधार पर। अभिष्ट,जिस दिन मतदाता बिना लालच के मत डालने जाएगा,वह दिन लोकतंत्र के लिए गौरवशाली होगा।
अतः लोकतंत्र के सजग प्रहरी चुनाव आयोग की संवैधानिक व्यवस्थाओं को राजनीतिक स्वार्थ सिद्धि के लिए बेवजह तार-तार न करें,तो ही अच्छा होगा। आयोग की साफगोई पर किसी को शक नहीं हैं। हाँ, राजनीतिज्ञों की कार्यप्रणाली और लोक-लुभावन हसीन सपने जरूर संशय में डालते हैं कि,वह पूरे होगें या नहीं। यह मिथक टूटेगा,तभी जन-मन लोकतंत्र के वास्ते,खाली कर दो रास्ते! नहीं आपके वास्ते,खाली हैं लोकतंत्र के रास्ते..का जयघोष करेगाl
                                                                                      #हेमेन्द्र क्षीरसागर

 

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दुमदार दोहे(व्यंग्य)

Thu Apr 20 , 2017
कुछ तुलसी कुछ सूर से, कुछ ले दास कबीर। बांच रहे हैं मन्च पर, होकर परम् अधीर। बन गए कवि सैलानी। जनता जाये भाड़ में, लें बटोर ये नोट। पांच साल के बाद फिर, कौन किसे दे वोट? गरीबी मिटा रहे हैं। पत्रकारिता के लिए, पैदा हुए कलंक। जन सेवा […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।