विवेक !

Read Time0Seconds

chaganlal garg

नेता व साधु के बीच यदि कही मैत्री भाव की अनुभूति हो तो समझ ले कि दोनों के बीच “विवेक पूर्ण ” समझौता है! इसी विवेक का इस्तेमाल हम अपने लिए करे अपने अंतर की चेतना से करे तो दोनों में भारी विभेद दृष्टिगोचर होता है क्योंकि दोनों के लक्ष्य और स्वभाव में भिन्नता है और मंजिल तक के रास्ते भी विपरीत है दोनों की प्रवृत्ति में अंतर है संत कोई नेता नही है कि भीड़ को जो अच्छा लगे वह बोले ! इस बात का हमें ख्याल कर लेना चाहिए कि वह जैसा है वैसा ही बोलता है किसी को अच्छा लगे , नही लगे उससे साधु का कोई वास्ता नही है ! पर नेता ठीक इसके विपरीत होता है नेता भीड़ का नेतृत्व चाहता है ! अतः वह यह पहले निश्चित कर लेगा ,देख लेगा कि भीड़ या अनुयायी क्या चाहते है ? अगर भीड़ चाहे कि समाज वाद लाओ , लोक पाल लाओ , राष्ट्र वाद लाओ तो नेता उस भीड़ के आगे खड़ा हो जाता हैं और पूरी ताकत से चिल्लाने लगता है कि मै यह लाकर दिखाऊँगा ! भोंपू की आवाज बड़ी तेज और बुलंद होकर वायुमंडल में तैरने लगती है ! असली शातिर समूह या झुण्ड अपने मकसद में कामयाब होने के लिए भीड़ का इस्तेमाल कुशलतापूर्वक करने लगते है और नेता को उस भीड़ के आगे खड़ा कर दिया जाता है भीड़ का संबल पाकर नेता फिर पीछे लौट कर नही देखता ! उसका विवेक और शौर्य भीड़ की ऊर्जा से मिलता रहता है !
ताज्जुब की बात यह भी है कि भीड़ अंध भक्ति में संत के प्रति समर्पित देखी गई है संत भी पारलौकिक वैभव की यात्रा लौकिक वैभव रूपी नाव से पूरी करना चाहता है ऐसी दशा को आज के नेता की विवेकी दृष्टि ने पहचान लिया है , इसलिए दोनों की विभिन्नता के उपरांत भी वैभव रूपी मंजिल तक पहुँचने के लिए दोनों मे अदृश्य प्रेमिल लहरे अद्वैत विचार धारा की एक रसता को लेकर बहती है ! दोनों के मध्य एक मौन समझोता हो चुका है !
भीड पर आरूढ़ आज नेता और संत दोनों हो चुके है विवेक का गला घोंटा जा रहा है ! जब भी विवेक ने नेता से कुछ कहना चाहा कि नेता जी आप देश को कहाँ ले जा रहे हो ? नेताजी हमेशा निर्लिप्त भाव से कहते है यह हमसे मत पूछो इस देश के ऋषियों से पूछो ! तपस्वियों से पूछो ! हिन्दुस्तान की मिट्टी से पूछो ! संस्कृति की जड़ों से पूछो ! नेता जी के जवाब से विवेक छटपटाहट में अधमरा हो चुका है …!!

#छगन लाल गर्ग विज्ञ
 
परिचय-
छगन लाल गर्ग “विज्ञ”! 
जन्मतिथि :13 अप्रैल  1954 
जन्म स्थान :गांव -जीरावल तहसील – रेवदर जिला – सिरोही  (राजस्थान ) 
पिता : श्री विष्णु राम जी 
शिक्षा  : स्नातकोतर  (हिन्दी साहित्य ) 
राजकीय सेवा :  नियुक्ति तिथि 21/9/1978 (प्रधानाचार्य, माध्यमिक शिक्षा विभाग, राजस्थान ) 
30 अप्रैल  2014 को राजकीय सेवा से निवृत्त । 
प्रकाशित पुस्तके :  “क्षण बोध ” काव्य संग्रह गाथा पब्लिकेशन,  लखनऊ  ( उ,प्र) 
“मदांध मन” काव्य संग्रह,  उत्कर्ष प्रकाशन,  मेरठ (उ,प्र) 
“रंजन रस” काव्य संग्रह,  उत्कर्ष प्रकाशन,  मेरठ (उ,प्र) 
“अंतिम पृष्ठ” काव्य संग्रह,  अंजुमन प्रकाशन,  इलाहाबाद  (उ,प्र) 
“तथाता” छंद काव्य संग्रह, उत्कर्ष प्रकाशन, मेरठ (उ.प्र.) 
“विज्ञ विनोद ” कुंडलियाँ संग्रह , उत्कर्ष प्रकाशन मेरठ (उ.प्र. ) । 
“विज्ञ छंद साधना” काव्य संग्रह, उत्कर्ष प्रकाशन!
साझा काव्य संग्रह – लगभग २५
सम्मान : विद्या वाचस्पति डाक्टरेट मानद उपाधि, साहित्य संगम संस्थान नईं दिल्ली द्वारा! विभिन्न साहित्यिक मंचो से लगभग सौ से डेढ सो के आस-पास! 
वर्तमान मे: बाल स्वास्थ्य  एवं निर्धन दलित बालिका शिक्षा मे सक्रिय सेवा कार्य ।अनेकानेक साहित्य पत्र पत्रिकाओ व समाचार पत्रों में कविता व आलेख प्रकाशित
वर्तमान पता : सिरोही (राजस्थान )
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दो दिलो का मिलन

Sat Jul 13 , 2019
दिल की बैचेनी को, कैसे हम मिटाये। जो गम है जिंदगी में, उन्हें कैसे भूल जाये। कुछ तो बताओ हमें, कैसे सुख शांति पाएँ।। बिखरी हुई हैं जिंदगी, कैसे समेटे इसे। दिल में बसी जो मूरत, उसे कैसे निकाल दें। कैसे पुकारू तुमको, अब तुम ही बता दो। और दो […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।