Advertisements
mrudula sinha
इतिहास की कुछ आशाएं
हम से भी हैं
बीते को सँभालने का
कहानियों को गढ़ने का
जैसे गुजरता हो
एक एक दिन
वैसे ही गुजर जाती हैं
कई सदियां भी
इतिहास
जो गुजर जाता है
अपने अतीत
को खुद में ही दफ़न कर
कई युगों को खुद में शामिल कर
बीतता जाता है हर पल
और हर दिन गुजरते हुए
इतिहास रच जाता है
कुछ आशाएं उनकी भी है
उनके दौर को
उनके संघर्ष को
उनके रास्तों को
मंजिल तय करने के
दरम्यान आयी बाधाओं को
समेटने का
हर एहसास की जीवंत रखने का
ये आशाएं है सब संभालने का
ये हमसे ही हैं
बीते कल को यादों में रखने का
#मृदुला सिन्हा 
पटना (बिहार)
(Visited 19 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2019/06/mrudula-sinha.pnghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2019/06/mrudula-sinha-150x150.pngmatruadminUncategorizedकाव्यभाषाmrudula,sinhaइतिहास की कुछ आशाएं हम से भी हैं बीते को सँभालने का कहानियों को गढ़ने का जैसे गुजरता हो एक एक दिन वैसे ही गुजर जाती हैं कई सदियां भी इतिहास जो गुजर जाता है अपने अतीत को खुद में ही दफ़न कर कई युगों को खुद में शामिल कर बीतता जाता है हर पल और हर दिन गुजरते हुए इतिहास रच जाता है कुछ...Vaicharik mahakumbh
Custom Text