Advertisements
edris
रोमियो अकबर वाल्टर
दिल तो नही छू पाई रॉ,
फ़िल्म समीक्षक इदरीस खत्री द्वरा,,,,
निर्देशक
रॉबी ग्रेवाल
अदाकार
जान अब्राहम, मोनी रॉय, जैकी श्रॉफ, सिकन्दर खैर, बोमन ईरानी, अलका अमीन
संगीत
अंकित तिवारी, सोहैल सेन, शब्बीर एहमद, राज आशू
पार्श्व ध्वनि
हनीफ शेख,
अवधि
139 मिनट
Screenshot_2019-04-05-05-31-09-056_com.google.android.googlequicksearchbox
दोस्तो देश मे टाइगर के बाद जासूसी फिल्मो पर खूब ताना बाना बुना जा रहा है पिछले साल राजी भी जासूसी फ़िल्म थी रॉ यानी रोमियो अकबर वाल्टर भी एक जासूसी फ़िल्म है जो कि सच्ची घटना पर आधारित प्रचारित की जा रही है
खैर फ़िल्म 1971 के भारत पाक की जंग के पहले की पृष्ठभूमि पर आधारित होकर भारत से पाकिस्तान स्थापित किये गए भारतीय जासूस रविन्द्र कौशिक के जीवन से प्रभावित बताई जा रही थी
मेरा इस पर एक सवाल है कि जब जासूस की गोपनीयता खत्म हो जाए तो वह जासूस कैसे रह जाएगा,मौत को गले लगाने के सिवा कोई चारा नही बचता उस जासूस के पास, और उन्हें वेसे ही ज़हनी और शारारिक तौर पर तैयार किया जाता है,,
फ़िल्म पर आते है
कहानी
1971 के आसपास की पृष्ठभूमि रखी गई है
कहानी अकबर(जान अब्राहम) से शुरू होती है जिस पर पाकिस्तानी खिफ़िया अधिकारी खुदाबक्श(सिकन्दर खैर) को शक है कि अकबर एक भारतीय जासूस है और उसे प्रताड़ित किया जा रहा है, यहां तक के उसकी उंगलियों के नाखून उखाड़ दिए गए है,
यहां से कहानी यादों के सफर पर निकलती है जिसमे रोमियो के अकबर तक का सफर पता चलता है,, रोमियो(जान) बैंक में काम करने वाला ईमानदार और बहादुर नोजवान है वह वही काम करने वाली सह कर्मी शृद्धा(मोनी रॉय) की मुहब्बत में है,, रोमियो अपनी माँ (अलका अमीन) के साथ रहता है, रोमियो के पिता ने देश के खतिर अपनी जान दी थी तो उसकी माँ ने देशभक्ति के ज़ज़्बे और जुनून से दूर अपने बेटे की परवरिश की है,
लेकिन एक दिन बैंक में डकैती होती है और रोमियो बहादुरी से लड़ता है,,यहां से उसकी जिंदगी में बदलाव आते है कि रोमियो को भारतीय खुफिया विभाग रॉ चीफ श्रीकांत रॉय(जैकी श्रॉफ) उसे बुलाते है और रॉ के जासूस बनने की पेशकश रखते है जिसमे रोमियों को पाकिस्तान जाकर अकबर मलिक बनकर पाकिस्तान से खुफिया जानकारियां भेजनी है उसके पाकिस्तान जाने से पहले मुकम्मल ट्रेनिंग दी जाती है और पाक भेजा जाता है जहां वह इज़हाक आफरीदी(अनिल जार्ज) का दिल जीतने में कामयाब हो जाता है साथ ही उसका विश्वास पात्र बन जाता है,
अब अकबर को भारत पाक के बदलीपुर में होने वाले हमले की खुफिया जानकारी भारत को भेजना है जिसमे एक पाकिस्तानी(रघुवीर यादव)उसकी मदद करता है,
यहाँ तक सब ठीक ठाक चल रहा था कि अचानक शृद्धा पाकिस्तान पहुच जाती है जिससे खुदाबख्श को एक सुराग मिलता है जिससे उसे अकबर पर शक हो जाता है,
वह उसे गिरफ्तार कर सच उगलवाना चाहता है,, लेकिन होता क्या है यह जानने के लिये   तो आपको रोमियो से अकबर की दास्तान जानने के फ़िल्म भी देखनी पड़ेगी
जासूसी विषय गहन शोध का विषय है रॉबी ग्रेवाल निर्देशक ने किया भी है जो कि फ़िल्म में साफ दिखता भी है
निर्देशक रॉबी इससे पहले फ़िल्म 2003 में फ़िल्म समय- मर्डर मिट्री सुष्मिता सेन के साथ  के अलावा mp3 मेरा पहला पहला प्यार, आलू चाट 2009 में बना चुके है,,कोई बड़ी सफलता तो हाथ नही है
फ़िल्म का पहले हाफ में सब कुछ स्थापित करने में निकाल दिया तो फ़िल्म थोड़ी नीरस लगती है, परंतु दूसरे हाफ में फ़िल्म लय पकड़ रफ्तार में आ जाती है,लेकिन अंत थोड़ा मायूस करता है,,,
जॉन से जिस एक्शन की उम्मीद की गई है फ़िल्म में वह पूरी नही होती
संगीत अच्छा बना है,
गाना जी लेन दें, मोहित चौहान ने बढ़िया गाया है जिसे बार बार सुन सकते है,
वंदे मातरम पर फ़िर एक और प्रयोग किया जो कि दिल को छू गया,,
जिसे सुरबद्ध और लिखा है शब्बीर एहमद ने,,
गाना  बुलैयां और अल्लाहू भीसुकून बख्श बने है,,
गानो में कोई भी गाना ऐसा नही है जिसे आप गुनगुना पाए केवल कर्णप्रिय है,,
 तपन तुषार बसु का फिल्मांकन बढ़िया है, खास बारिश वाले दृश्य अच्छे बन गए है,,
फ़िल्म का बजट 40 करोड़ है
जो कि आसानी से निकल जाएगा,,
फ़िल्म को देश भर में 2600 स्क्रीन्स मिली है साथ ही आई पी एल क्रिकेट घमासान चल रहा है तो शुरूआत फीकी रहने की उम्मीद ही जिसमे 4 से 7 करोड़ की शुरुआत हो सकती है,,,
अदाकारी पर बात करे तो जॉन मंज़ गए है अलग अलग किरदारों को बखूबी निभाया है, इस साल जान की  फिल्म आनी है बाटला हाउस जिसमे वह पुलिसवाले की भूमिका में होंगे
मोनी रॉय का काम न के बराबर ही है,
सिकन्दर खैर ने बढ़िया काम किया है वह जमते है किरदार में,
शेष अदाकार औसत रहे है
छोटे से किरदार में रघुवीर छाप छोड़ने में कामयाब रहे है,,
फ़िल्म को हमारी तरफ से
3 स्टार्स

#इदरीस खत्री

परिचय : इदरीस खत्री इंदौर के अभिनय जगत में 1993 से सतत रंगकर्म में सक्रिय हैं इसलिए किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं| इनका परिचय यही है कि,इन्होंने लगभग 130 नाटक और 1000 से ज्यादा शो में काम किया है। 11 बार राष्ट्रीय प्रतिनिधित्व नाट्य निर्देशक के रूप में लगभग 35 कार्यशालाएं,10 लघु फिल्म और 3 हिन्दी फीचर फिल्म भी इनके खाते में है। आपने एलएलएम सहित एमबीए भी किया है। इंदौर में ही रहकर अभिनय प्रशिक्षण देते हैं। 10 साल से नेपथ्य नाट्य समूह में मुम्बई,गोवा और इंदौर में अभिनय अकादमी में लगातार अभिनय प्रशिक्षण दे रहे श्री खत्री धारावाहिकों और फिल्म लेखन में सतत कार्यरत हैं।

(Visited 10 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2017/03/edris.jpghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2017/03/edris-150x150.jpgmatruadminUncategorizedफिल्ममनोरंजनedris,khatriरोमियो अकबर वाल्टर दिल तो नही छू पाई रॉ, फ़िल्म समीक्षक इदरीस खत्री द्वरा,,,, निर्देशक रॉबी ग्रेवाल अदाकार जान अब्राहम, मोनी रॉय, जैकी श्रॉफ, सिकन्दर खैर, बोमन ईरानी, अलका अमीन संगीत अंकित तिवारी, सोहैल सेन, शब्बीर एहमद, राज आशू पार्श्व ध्वनि हनीफ शेख, अवधि 139 मिनट दोस्तो देश मे टाइगर के बाद जासूसी फिल्मो पर खूब ताना बाना बुना जा रहा है...Vaicharik mahakumbh
Custom Text