अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में मुकेश मीडिया गौरव सम्मान से हुए सम्मानित 

Read Time2Seconds

IMG20190324144457

भिवानी |

गुगनराम एजुकेशनल एण्ड सोशल वैलफेयर सोसायटी – हरियाणा, बोहल शोध मञ्जूषा (अन्तर्राष्ट्रीय शोध पत्रिका) व टांटिया विश्वविद्यालय – श्रीगंगानगर (राजस्थान) ने संयुक्त बैनर तले आर्यसमाज मंदिर सभागार – घंटाघर, भिवानी में एक अन्तर्राष्ट्रीय सम्मान समारोह का आयोजन किया | जिसमें जनपद आगरा निवासी मुकेश कुमार ऋषि वर्मा को उनकी कलम साधना के लिए उन्हें श्रीमती रज्जीदेवी नंदाराम सिहाग मीडिया गौरव सम्मान -2019 डॉ. नरेश सिहाग एडवोकेट, राधेमोहन राय, डॉ. राजेन्द्र गोदारा, डॉ. विनोद तनेजा, डॉ. प्रतिभा चौहान व प्रो. सत्यवीर कालोहिया के करकमलों से प्रदान किया गया |

कार्यक्रम का मुख्य विषय था, इक्कीसवीं सदी – नव विमर्श | जिसमें देश-विदेश के शोधार्थियों ने अपने – अपने शोधपत्र पढ़े | कार्यक्रम में मंचासीन रहे मनीषा महन्त, धनंजय चौहान मंगलमुखी, डॉ. कैलाश चंद शर्मा शंकी, राधेमोहन राय | साथ ही कार्यक्रम में उपस्थिति दर्ज कराई डॉ. अशोक मंगलेश, बसंत बंसल, डॉ. सुरजीत कैशवा, डॉ. राजेश शर्मा, डॉ. नीलम दहिया, डॉ. सुमन भाटी, रविकुमार, सुशील भगत, साहब सिंह, संजय धौलपुरिया आदि | सुस्वादु भोजन के उपरान्त कार्यक्रम का समापन हुआ | कुलमिलाकर कार्यक्रम पूर्णतः सफल रहा |

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नशा

Sat Mar 30 , 2019
      आज फिर हरिया,देर रात गये नशे में आया और पूरा घर आसमान पर उठा लिया।सिया की पूरी रात आंसुओं में गुजरी।        हरीराम, गांव का होनहार,बारहवीं कक्षा में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण युवक।सब उसे प्यार से हरिया कहते थे।पिता की खेती-बाड़ी भी अच्छी तरह से […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।