स्याही और शब्द

Read Time0Seconds

aashutosh kumar
शब्दों से भरी पन्नों की स्याही
कितनी वफादार निकली
“नजर” आती है स्पष्ट
ज्ञान देती है झटपट
होती नही नटखट
स्याही के करिश्में
कितनी मशहूर निकली
शब्दों से भरी पन्नों की स्याही
कितनी वफादार निकली।

गमो का पहाड़ भी थाम लेती है
कलम की सिपाही बनकर
कुछ तो सिख लिया होता स्याही से
जिस में ढल जाय
उसी की सलाहकार निकली
शब्दों से भरी पन्नों की स्याही
कितनी वफादार निकली।

जिनको राह दिखाये
वह उडने लगता है
स्याही के शब्दों को पाकर वो
ज्ञान की सागर कहलाता है
कांटे सी भरी राह भी लाचार निकली
शब्दों से भरी पन्नों की स्याही
कितनी वफादार निकली।

ये अनमोल मोती है
पकड कर चलोगे
कभी न झुकोगे
एक स्याही ही ऐसी है
जिसके आगे पहाड़ भी
शिस झुकाता है
सच कहता हू यारो
इसकी वफा के आगे
सारी वफा लाचार निकली
शब्दों से भरी पन्नों की स्याही
कितनी वफादार निकली।

“आशुतोष”

नाम।                   –  आशुतोष कुमार
साहित्यक उपनाम –  आशुतोष
जन्मतिथि             –  30/101973
वर्तमान पता          – 113/77बी  
                              शास्त्रीनगर 
                              पटना  23 बिहार                  
कार्यक्षेत्र               –  जाॅब
शिक्षा                   –  ऑनर्स अर्थशास्त्र
मोबाइलव्हाट्स एप – 9852842667
प्रकाशन                 – नगण्य
सम्मान।                – नगण्य
अन्य उलब्धि          – कभ्प्यूटर आपरेटर
                                टीवी टेक्नीशियन
लेखन का उद्द्श्य   – सामाजिक जागृति

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बिटिया का घर

Fri Dec 14 , 2018
बिटिया भी चिड़ियाँ होती है पर पंख नहीं होते उनके दो जगहों का सुंदर रिश्ता मायका, ससुराल पर घर नहीं होते उनके । जनम दिया जिस मात – पिता ने कहते बेटी तो परायी है ससुराल में जब जाती बेटी सास – ससुर कहते ….. ये तो परायी घर से […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।