वाग्देवी-वंदना

Read Time3Seconds
devendra kumar pathak
सारदे, माँ सारदे, शत्-शत् नमन् माँ सारदे!
प्रेम,करुणा,न्याय की
सद्वृत्तियाँ धुंधला रहीं;
नीतियों को छद्म,छल,
दुर्वृत्तियाँ झुठला रहीं.
इस सदी के त्रस्त जन का
सुन रुदन माँ सारदे!
सत्य,शिव,सुंदर की शाश्वत-
भावना का ही वरण हो;
नव सदी में नव प्रभाती
राग से जन जागरण हो.
शांति,श्रम,समता की सरगम
गाएँ जान माँ सारदे!
हों उदित मानव-मनीषा
मन में नव संकल्पनाएँ;
कंठ स्वर में हो स्वभाषा,
प्रगति के नवगीत गाएँ.
नवसदी में सार्थक हो
सर्जना माँ सारदे!
धर्म हो सेवा परम्
सबकी हरें भय भीरुता;
हर ह्रदय को जीतना ही
हो हमारी वीरता.
कर सकें दायित्व का हम
निर्वहन माँ सारदे!

#देवेन्द्र कुमार पाठक ‘महरूम’

परिचय: म.प्र. के कटनी जिले के गांव भुड़सा में 27 अगस्त 1956 को एक किसान परिवार में जन्म। शिक्षा-M.A.B.T.C. हिंदी शिक्षक पद से 2017 में सेवानिवृत्त. नाट्य लेखन को छोड़ कमोबेश सभी विधाओं में लिखा ……’महरूम’ तखल्लुस से गज़लें भी कहते हैं। 2 उपन्यास, ( विधर्मी,अदना सा आदमी ) 4 कहानी संग्रह,( मुहिम, मरी खाल : आखिरी ताल,धरम धरे को दण्ड,चनसुरिया का सुख ) 1-1 व्यंग्य,ग़ज़ल और गीत-नवगीत संग्रह,( दिल का मामला है, दुनिया नहीं अँधेरी होगी, ओढ़ने को आस्मां है ) एक संग्रह ‘केंद्र में नवगीत’ का संपादन ‘ वागर्थ’, ‘नया ज्ञानोदय’, ‘अक्षरपर्व’, ‘ ‘अन्यथा’, ,’वीणा’, ‘कथन’, ‘नवनीत’, ‘अवकाश’ ‘, ‘शिखर वार्ता’, ‘हंस’, ‘भास्कर’ आदि पत्र-पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित.आकाशवाणी,दूरदर्शन से प्रसारित. ‘दुष्यंतकुमार पुरस्कार’,’पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी पुरस्कार’ आदि कई पुरस्कारों से सम्मानित। कमोबेश समूचा लेखन गांव-कस्बे के मजूर-किसानों  के जीवन की विसंगतियों,संघर्षों और सामाजिक,आर्थिक समस्याओं पर केंद्रित।

#देवेन्द्र कुमार पाठक
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

एक देवी  की कहानी

Mon Sep 17 , 2018
वो बिल्कुल आम इंसानो जैसी थी, उसकी चाहते भी वैसी ही थी,, वो इंसानो की बस्ती में रहती थी पर  वो एक देवी थी। वो चाहती थी खुल कर हँसना पर नही हो सकता था पूरा,उसका ये सपना.. क्योंकि अवैध था देवीयों का यों आम इंसानो की तरह खुल कर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।