भारतवर्ष प्यारा

Read Time5Seconds
aalok vashishth
जहाँ है गंगा की उर्मिल धारा,
जहाँ ध्रुव कोई बन जाए तारा
जहाँ शून्य है जन्मा,
जिसे जाने जहां सारा
जिसके भाल पर शोभित पर्वतराज है न्यारा,
जहाँ है स्वयं गिरधर ने कोमल पांव पखारा
जिसके ओज से यहाँ औरंगजेब है हारा,
जहाँ पाकर ज्ञान की अमृत बना ‘कवि’ कालिदास बेचारा
जिसके ज्ञान ने यहाँ नन्द वंश संहारा,
वो देश है मेरा भारतवर्ष प्यारा।
जहाँ नचिकेता यमराज से आत्मज्ञान ले आता है,
जहाँ सावित्री के जप-तप से सत्यवान जी जाता है,
जहाँ बुद्ध की इक पुकार से अंगुलीमाल रुक जाता है,
जहाँ कनिष्ठा की निष्ठा में गोवर्धन झुक जाता है,
जहाँ शबरी के जूठे बेरों से संजीवनी उग आता है,
जहाँ देख सिल पर निशान एक वरदराज जग जाता है,
जहाँ अमित ज्ञान की अमिट स्रोत है;
जो विश्व गुरु कहलाता है,
वो भारतवर्ष है मेरा जिसपर मन मेरा मदमाता है।
जहाँ हैं जन्म लिए भगवान,जहाँ के बलशाली हनुमान
जहाँ भगवान करे स्नान,जहाँ की मर्यादा पहचान
जहाँ हैं हिय में बसते राम,जहाँ खेले कृष्ण-बलराम
जहाँ की अमन एक पैगाम,जहाँ बसतें हैं चारों धाम
जहाँ थे अभिमन्यु से वीर,जहाँ थे युधिष्ठिर से धीर
जहाँ थे अर्जुन के लक्षित तीर,जहाँ थे भीष्म से व्रती पीर
जहाँ की माटी उसकी इत्र,जहाँ थे कर्ण से अद्भुत मित्र
जहाँ बादल में बनते चित्र,जहाँ थे सुदामा से पाक चरित्र
जहाँ के पंछी गाते गीत,जहाँ शत्रु हो जाते मीत
जहाँ हारे को मिलती जीत,जहाँ सरहद न कोई भीत
जहाँ की शौर्य है उसकी शान,जहाँ स्नेह दिलाता मान
जहाँ सुख-दुःख एक समान,वो मेरा भारतवर्ष महान।
जहाँ के सारथी कृष्ण-मुरार,जहाँ दुर्गा के दस अवतार
जहाँ परशु सा दिव्य कुठार ,जहाँ प्रलय-गांडीव की टंकार
जहाँ का पुत्र श्रवण कुमार,जहाँ माँ काली पहने अरि-मुंडेरों की हार
जहाँ के मूल निवासी आर्य,जहाँ पूजा जाता हो कार्य,
जहाँ के अजेय द्रोण आचार्य,जहाँ के कुलगुरु कृपाचार्य
जहाँ शोणित वीरों का श्रृंगार,जहाँ सिंधु में उठता ज्वार
जहाँ हिमशिला रही हुंकार,जहाँ बारिश लाता मल्हार
जहाँ है वेदों का भंडार,जहाँ शास्त्रों का हो समाहार
जहाँ हो दीपों का त्योहार,जहाँ हो रंगों का बौछार
जहाँ पूजे जाते औजार,जहाँ के हरे खेत पतवार
जहाँ न भूखा न बीमार,है सबका भारत पालनहार।
परिचय- 
नाम-अलोक कुमार
साहित्यिक उपनाम-अलोक कुमार वशिष्ठ
वर्तमान पता-पकरीबरावां (एरुरी)
राज्य-बिहार
शहर-नवादा
शिक्षा-जारी 12वीं कक्षा में अध्ययनरत
विधा -आलेख/कविता
लेखन का उद्देश्य-सामाजिक बदलाव
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

प्यार  

Tue Sep 11 , 2018
बचपन की यादो को भूलाया जा नहीं सकता / दादा दादी नाना नानी का प्यार, कभी भी दिल दिमाग से मिटाया जा नहीं सकता / अपनो का प्यार कैसा भी रहा हो , पर उसे जीवन के पन्नो से भुलाया जा नहीं सकता  / बड़ी मुश्किल में हूँ, कैसे इज़हार […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।