मॉरीशस और हिंदी – इन्द्रदेव भोला इन्द्रनाथ

0 0
Read Time8 Minute, 28 Second

mauritius - Copy - Copy

हिंदी की इस उर्वरा भूमि में हिंदी के अनेक सुगंधित पुष्प खिले जिन्होंने मॉरीशस सहित विश्व में हिंदी की सुगंध को फैलाया है। वे न केवल हिंदी के प्रचार-प्रसार में लगे हैं बल्कि हिंदीभाषियों की नई पीढ़ियाँ तैयार करने में जी – जान से जुटे हैं। बाल – मन को बचपन से ही हिंदी से सुगंधित करने के लिए उन्होंने बाल-निबंध, बाल-नाटकों की रचना के साथ-साथ बाल-जगत पत्रिका का प्रकाशन भी प्रारंभ किया। साथ ही लोक-जीवन को भारतीय संस्कृति के कलेवर में समेटने के लिए उन्होंने लोककथाओं को भावी पीढ़ियों के लिए संकलित किया है। इन्द्रदेव भोला गद्य और पद्य दोनों विधाओं में समाधिकार से स्तरीय रचना करने वाले सशक्त साहित्यकार हैं।

9 दिसंबर 1961 को स्वर्गीय डॉ.मुनीश्वरलाल चिंतामणी जी ने मॉरीशस के लेखकों के एक संघ की स्थापना करने के लिए पोर्ट-लुईस (मॉरीशस की राजधानी) के नेओ कॉलेज में आमंत्रित लेखकों को संबोधित करते हुए कहा था कि संघ का मुख्य उद्देश्य व्यवस्थित रूप से मॉरीशस में साहित्य- सृजन करना है और निकट भविष्य में अनेक लेखक, कवि, कहानीकार, उपन्यासकार तथा अनेक साहित्यकार पैदा करना है जो देश के दीप-स्तंभ बनेंगे। इसी हिंदी लेखक संघ के तृतीय स्तंभ श्री इनद्रदेव भोला मुलत

: कवि हृदय हैं। जीवन जिजीविषा से संपूर्ण कवि हृदय ही उन्हें एक साथ कथाकार, निबन्धकार, संपादक और शोधकर्ता बनाए हुए है जिसके चलते इन्होंने मॉरिशस के साथ-साथ विश्व के हिंदी और हिन्दुस्तानी समाज को महत्वपूर्ण कृतियाँ भेंट की हैं।

इन्द्रदेव भोला ने अपने शोधकार्य, संपादन, एवं लेखन द्वारा मॉरीशस में मॉरीशस तथा विश्व के हिंदी सेवियों का विलक्षण अविस्मरणीय इतिहास रच रहे हैं। उनकी कर्मठता की गूंज अपनी रचनाओं में गुंजित कर रहे हैं। विदेशों में हिंदी तथा विश्व में हिंदी एवं आर्य समाज उनकी ऐसी महत्वपूर्ण शोधपरक पुस्तकें हैं जिनमें विश्व में हिंदी के विकास का इतिहास दर्ज है तो ‘गागर में सागर’ काव्य-संग्रह में 2244 हाइकू के मोती हैं और प्रतिध्वनियाँ कविता पुस्तक में 2244 कविताएं हैं। ‘हाइकू’ से वे अपने विचार और संवेदना को एक व्यंग्य विस्फोट के साथ उद्भाषित करते हैं। हाइकू में ‘पिन पॉइंट’ करते हुए दुनिया की सच्चाई को निर्मम होकर प्रकट करते हैं।

लोककथाओं में जीवन और जगत की प्राणवान शक्ति होती है।लोककथाएँ अपने समय और समाज की सच्चाइयों की ख में जन्म लेती है। वे समाज के मानस की वास्तविक सहचर होती है।इसे ध्यान में रखते हुए ‘मॉरिशस की लोककथाओं और लोक संस्कृति की रक्षा और संवर्धन के निमित्त ‘मॉरिशस की लोककथाएं’पुस्तक की रचना की जो बहुत चर्चित रही। इसके साथ-साथ धर्मवीर धूरा और डॉ. मुनीश्वरलाल चिंतामणि के अभिनूतन मेंउनके कृतित्व और व्यक्तित्व को संजोते हुए स्मृतिग्रन्थों का संपादन किया।

इस तरह एक ओर कविता, कहानी, नाटक के द्वारा इन्द्रदेवजी ने मॉरिशस के साहित्य भंडार को समृद्ध किया है तो दूसरी ओर ‘बालसखा’ पत्रिका प्रकाशित करके बालमानस की हिन्दुस्तानी और मानवीय संवेदनाओं से रचने का प्रयास किया है । तीसरी ओर उन्होंने अपने देश के अंग्रेजों पर स्मृतिग्रन्थ संयोजित करके अपने समय के इतिहास को संजोने का महान कार्य भी किया है।

इस तरह इन्द्रदेव भोला इन्द्रनाथजी मॉरिशस के बहुआयामी साहित्यकार हैं और कवि, कथाकार, निबंधकार, नाटककार, इतिहासकार तथा संपादक के रूप में प्रसिद्ध हैं। वे हिंदी, अंग्रेजी, फ्रेंच, भोजपुरी तथा क्रियोल भाषाओं में भी लेखन करते हैं। हिंदी, अंग्रेजी, क्रियोल तथा भोजपुरी में लिखे इनके कई नाटक इनके ही निर्देशन में मंचित हुए हैं। सन् 2012 में राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित क्रियोल में इन्हें राष्ट्रीय एकता मंत्रालय द्वारा इन्हें सर्वश्रेष्ठ नाटककार के रूप में सम्मान प्रदान किया गया। इन्द्रदेव भोला काफी वर्षों तक हिंदी लेखक संघ के महामंत्री रहे और अब उसके अध्यक्ष हैं। आर्यसभा द्वारा निरीक्षक और परीक्षक नियुक्त हैं। शिक्षा केंद्र विद्या भवन के संस्थापक व संचालक हैं जहाँ पिछले 44 वर्षों से हिंदी की नि:शुल्क पढ़ाई होती है।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी इन्द्रदेव भोला ’प्रकाश’ शीर्षक से पाक्षिक साहित्यिक-सांस्कृतिक रेडियो कार्यक्रम भी प्रस्तुत करते रहे हैं। सरकारी स्कूल में हिंदी अध्यपक व उप प्रधानाध्यापक रहे हैं। पिछले पचास वर्षों से हिंदी सेवा व सृजनात्मक लेखन के लिए मॉरिशस सरकार तथा साहित्यिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित होते रहे हैंजिनमें प्रमुख हैं –‘सनातन धर्म टेम्पल्स फेडरेशन’, ‘आर्य सभा’, ‘हिंदी प्रचारिणी सभा, ‘हिंदी सेवा संस्थान’, ‘हिंदी संगठन’, ‘हिंदी लेखक संघ’ ।

विश्व हिंदी सचिवालय द्वारा हिंदी विश्व भाषा सम्मान, हिंदी साहित्य अकादमी ने ‘हिंदी सेवा निभूति’, ब्रह्मकुमारी संस्था द्वारा ‘आदर्श अध्यापक’ और 2014 में विक्रमशिला हिंदी विद्यापीठ, भारत तथा अभ्युदय संस्था वर्धा, ने इन्हें पी.एच.डी., सारस्वत विद्या वाचस्पति, तथा ‘हिंदी सरस्वति सम्मान’ से विभूषित किया है।इसके साथडसाथ ग्राम परिषद द्वारा विशिष्ट सम्मान भी प्राप्त हो चुका है। दरअसल ऐसे सतत् संघर्षशील हिंदी कार्यकर्ता के माध्यम से ये सम्मान भी सम्मानित हुए हैं। हिंदी भाषा व साहित्य के प्रचार-प्रसार के लिए संघर्षरत ऐसे संघर्षशील व्यक्ति को ‘वैश्विक हिंदी सम्मेलन’ द्वारा ‘ हिंदी का विश्वदूत’ घोषित किए जाने से हम सभी स्वयं को गौरवान्वित अनुभव कर रहे हैं कि हम सब के बीच सभी स्वार्थों और जीवन –सुख से परे जाकर इन्द्रदेवजी हिंदी के सच्चे सेवक के रूप में निस्पृह भाव से जुटे हुए हैं।

वैश्विक हिंदी सम्मेलन, मुंबई

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अटल गाथा पूरी नहीं होगी..

Mon Aug 20 , 2018
काल के कपाल पर लिखता हूँ… मिटाता हूँ गीत नया गाता हूँ…गीत नया गाता हूँ कितना भी लिखें… कितना भी पढ़ें…अटल गाथा पूरी नहीं होगी…जब से यह दुःखद खबर आई… वक्त की सुई ठहर सी गई है…मेरी कलम भी इन स्मृतियों से बाहर निकलना नहीं चाहती… संसद में अटल जी […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।