Archives for लघुकथा - Page 3

माँ `रेड चिली`

कॉलेज में कदम रखते ही बिटिया,लगी कि बड़ी हो गई। इस जमाने में वैसे भी बच्ची जल्दी ही समझदार हो जाती है। एक समय था जब संस्कार,शिक्षा,नैतिकता,रिश्तेदारी का सबक परिवार…
Continue Reading

सच्चे मित्र

दो मेधावी छात्र विनय और तेजस पक्के मित्र गुरुकुल में रहते थे। नाम अनुरूप विनय बहुत ही अच्छा और तेजस गुस्सैल बालक था।  विनय चाहता था तेजस भी उसी के…
Continue Reading

बेटा-बेटी एक समान ?

अरे नितिन की माँ देखो,मैंने नितिन व उसकी पत्नी दोनों का बीमा करवा दिया था और ६०००० हजार रुपए भी मैंने भर दिए थे,पर उसने तो पैसे निकालकर पॉलिसी ही…
Continue Reading

शराबी पटवारी

मुरारी का सौदा नहीं बैठ रहा था। उसने कहा-‘पटवारी साहब ! मैं १२००० रूपए दिलवा सकता हूं,जिसमें मेरा हिस्सा ४००० रूपए रहेगा।’ मगर,राजू पटवारी नहीं मान रहा था।वह नशे में…
Continue Reading

गुरू दीक्षा

गुरूपूर्णिमा का पावन दिन,दरबार में शिष्यों का तांता लगा हुआ है। आज गुरूजी के दर्शन के लिए सुशील अपनी माता जी को भी ले आया। माताजी ने सुशील का हाथ…
Continue Reading

परास्त-ज्ञान

     रमनसिंह सब्जियां लेकर मुड़ा ही था कि उसने अनायास सामने पड़ गए मिश्र जी से दो-तीन सवाल एक साथ कर डाले-'कैसे हैं सर ?,प्रैक्टिस  कैसी चल रही है…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है