ये फलक ये सितारे, पूछेंगे नहीं कौन है तू। ये जमीन यह नजारे, पूछेंगे नहीं कौन है तू। जो जाना हो अपनी मंजिल तक, अकेला ही चल  देना… जब तक नहीं मिलेगी एक भी सही राह, कोई भी पहचानेगा नहीं कौन है तू। हमसफर का इंतजार न करना, ये सफर […]

1

आज देखा उसकी आंँखों में एक अलग-सी चमक थी, यूं तो खामोश थी वह, पर सब कुछ कह रही थी। उतरा-सा चेहरा, फिर भी चेहरे पर मुस्कान, यही तो थी उसकी गरीबी की पहचान। बोली वह मुझसे आकर, कुछ खाने को चाहिए, सोच में पड़ गई आज मैं, सुना था […]

ये प्यार किसे चाहिए?? वो भी इतना बेशुमार किसे चाहिए.. यहां तो पूरी तरह प्यार से तरबतर हैं साहब॥ इस कदर का ऐतबार किसे चाहिए?? किस लायक हैं हम ये तो वह भी जानते हैं, उनके जाने बिना किसी और की चाहतों का खुमार, किसे चाहिए?? हमारी मोहब्बत से वाकिफ […]

जिंदगी मेरी बेचैन-सी रहती है, न जाने क्या करने से डरती है। जिस तरह ख्वाबों के साहिल के किनारे नहीं आते, उस तरह यह भी भटकती फिरती है। मोहताज नहीं होती तस्वीरें एक रंग की, पर उस एक रंग के बिना तस्वीर पूरी भी नहीं होती। बिखरे से मिलते हैं […]

श्वांस सब रवाँ-रवाँ, मौसमों की डोलियों में खुशबुएं रमा-रमा, कहार-सा श्रावण चला। घुमड़ रहीं हैं बदलियाँ, अठखेलियाँ जवाँ-जवाँ शबाब पर हैं बिजलियाँ, कड़क रहीं यहाँ-वहाँ। ये श्वेत अश्व मेघ के, घटा के रथ को खींचते छलका रहे हैं व्योम से, अमृत कलश जहाँ-तहाँ। उठता रहा समुद्र से, टकरा रहा पहाड़ […]

किन शब्दों में बयान करूँ मैं माँ को ? मेरे अस्तित्व का आधार,या मेरी श्वांसों में रची-बसी प्राणसुधा। मेरे व्यक्तित्व को रोशन करती लौ, या मेरे वजूद का बुनियादी ढाँचा। मेरी रुह में सम्मिलित रुहानियत,या मेरे संस्कारों की खुशबू….माँ को शब्दों में समेट पाना ,ईश्वर को परिभाषित करने जैसा है। […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।