एक निवेदन

0 0
Read Time3 Minute, 48 Second

cropped-cropped-finaltry002-1.png

आदरणीय भाषासारथी,
मातृभाषा.कॉम आप सभी वरिष्ठ और नवोदित रचनाकारों के लिए एक सुनहरा अवसर लाया है, जहाँ हम परिवारजन जो बीते कई महीनों से वेब पर अपनी रचनाएँ प्रकाशित करवा रहे हैं,अब अपना साझा काव्य संग्रह भी प्रकाशित करने जा रहा है..इसका नाम ‘मातृभाषा’ ही होगा और नाम अनुरुप विषय भी हिन्दी ही होगा..पोर्टल से नहीं जुड़े हुए रचनाकार भी इसमें शामिल हो सकते हैं..इसमें हिन्दी के प्रति जिम्मेदारी,शासन से हमारी मांग,हिन्दी की दुर्दशा पर पीड़ा आदि विषयान्तर्गत काव्य रुप में समाहित कर जनमंच तक उसे सशक्त हस्ताक्षर के रुप में पहुँचाने का प्रयास होगा..इसका विमोचन और सम्मान इंदौर (मध्यप्रदेश)के किसी प्रतिष्ठित सभागार या होटल में प्रस्तावित है।

🔹कविता (साझा संग्रह) के लिए अधिकतम १८ पंक्ति की ३ कविता,१ छोटा चित्र व परिचय आपको भेजना है..इसमें से १ रचना को ही संग्रह हेतु चयनित किया जाएगा।
***
🔹रचनाएं भेजने की अंतिम तिथि कॊ सदस्यों के अनुरोध पर बढ़ा दिया गया है..अब यह एक संकलन के सदस्य पूरे होने तक है..शीघ्रता कीजिए..

🔹प्रति रचनाकार न्यूनतम सहयोग राशि के आधार पर इस संग्रह को प्रकाशित कर विमोचन के अवसर पर वितरण और समारोह की योजना है।

🔹विशेष-आप सहयोग राशि पूर्व में ही बैंक में जमा करवाते हुए हमें सप्रमाण सूचना अवश्य दीजिए,ताकि आपकी रचना पुस्तक में शामिल कर पाएँ।

🔹ध्यानार्थ-साझा काव्य संकलन में ‘आईएसबी एन’ अंक होगा,साथ ही किताब का मुख्य पृष्ठ एवं छपाई भी उच्च स्तरीय रहेगी..यह हार्ड बाइंडिंग की किताब होगी।

🌸सभी संकलन ई-बुक के रुप में मातृभाषा.कॉम की वेबसाइट पर भी प्रकाशित किए जाएंगे।
आग्रह है कि,इच्छुक रचनाकार के तौर पर आप शीघ्रता से अपनी स्वीकृति-सहयोग राशि देकर matrubhashaa@gmail.com पर रचनाएँ भेज सकते हैं..देय राशि सूचित किए जाने वाले खाते में जमा करानी होगी।

राशि खाता क्र.- 53052939875 अजय जैन,स्टेट बैंक ऑफ इंडिया(ifsc-SBIN00 30144) से ही भेजिएगा..
******
पूछताछ-सम्पर्क:- 9770067300
###########
🌼योजना में शामिल होने के लिए प्रवेश का आधार ‘पहले आएं-पहले पाएं’ ही रखा गया है।
>>>>>>>>>>>>>>>>
सादर धन्यवाद।             टीम मातृभाषा
निवेदन-🙏🏻मातृभाषा हिन्दी पोर्टल पर अपनी ओर से रचना प्रेषण, प्रचार सहित यथासम्भव सहयोग बनाए रखिए..

धन्यवाद।

————————-
🔘अर्पण जैन ‘अविचल’
<> सह संस्थापक-मातृभाषा.कॉम(हिन्दी पोर्टल) भ्रमण भाष- +918839243077
<> प्रधान सम्पादक-ख़बर हलचल न्यूज़,इंदौर

अंतरताना- www.matrubhashaa.com

अणु डाक
matrubhashaa@gmail.com

दूरभाष
(O) 0731-4977455

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

संस्कार 

Thu Sep 7 , 2017
एक मुहल्ले में दो परिवार रहा करते थे,विमल वर्मा और शांति सहाय। विमल वर्मा की पत्नी का नाम दुर्गा देवी और शांति सहाय की पत्नी का मृदुला थाl शांति सहाय कारोबारी थे,मन से शांत निर्मल स्वभाव दिल से कोमल और परिवार की शांति उनकी पूंजी थी। उनकी पत्नी भी बड़ी […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।