ज़िन्दगी इक नदी…

0 0
Read Time1 Minute, 12 Second

जिंदगी इक नदी है
अनवरत प्रवाह
किए बिना परवाह
आगे बढ़ते ही जाना
वापस कभी ना आना
‘सावन’ समय के साथ
कदमताल मिलाना
धार से अलग हो
खेतों में जाना
लोक कल्याण हेतु
खुद को मिटाना
यही तो नदी है
यही जिंदगी है

कहीं है सुखद- शांति
कहीं अशांति- क्रांति
कहीं है पारदर्शिता
तो कहीं भ्रम- भ्रांति

मन से गुनो
नदी से सुनो-

मृत्यु की निनाद
और जीवन का संगीत
करो फूलों से, शूलों से,
पत्थरों से प्रीत

वह जीवन है नीरस
जहां आंसू नहीं
जहां समस्याएं नहीं
जहां आलोचक नहीं

है दुख में ही गति
है दुख में प्रगति

सोया है सुख का सागर
ओढकर दुख का तरंग
यही है जीवन का रंग

दुख हो या सुख
सदा गुनगुनाना
सदा मुस्कुराना
आगे बढ़ते ही जाना
यही तो नदी है
यही जिंदगी है

सुनील चौरसिया ‘सावन’,
प्रवक्ता, केंद्रीय विद्यालय टेंगा वैली,
अरुणाचल प्रदेश

matruadmin

Next Post

शर्मा राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित

Wed Mar 4 , 2020
शून्य से सशक्तिकरण 1से 2 मार्च 2020 भवानीमंडी | राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सूलिया (झालावाड) के शिक्षक राजेश कुमार शर्मा को जेड आई ई आई, संस्था जो मानव संसाधन विकास मंत्रालय दिल्ली,श्री अरविंदो सोसायटी एच डी एफ सी बैंक के सहयोग से संचालित है ने रविवार एवम सोमवार को आई […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।