पुस्तक समीक्षा: ‘समय अभी तक वहीं खड़ा है…’

0 0
Read Time8 Minute, 52 Second

चार दिन जिंदगी है सुना था मगर
तीसरा दिन गया है बिना बात के…

जब कोई ऐसा काम करना पड़े जिसका मन न हो तो आँखे खिड़की के बाहर कहानियाँ तलाशती हैं। एक ऐसे ही दिन खिड़की के बाहर मैंने देखा गुलमोहर का पेड़ और 3 घंटे तक कल्पेश जी का ये गीत मेरी चेतना में रहा। गुलमोहर का पेड़ मेरे लिए हमेशा खुशियों का प्रतीक रहा है। ऐसा पहली बार हुआ कि किसी गीत को एक बार ही सुनने भर से वो आत्मा में इस तरह घुल गया कि मैंने स्वयं को उसे यदा-कदा गुनगुनाते हुए पाया।

कल्पेश वाघ की पुस्तक प्राप्त हुई। “समय अभी तक वहीं खड़ा है” नाम सुनकर लगा कि वाकई जिसने भी कल्पेश जी की कोई भी रचना सुनी है, उनके लिए समय अभी तक वहीं खड़ा है। वो पल कैमरे की रील की भाँति कैद हो गए हैं। इस पुस्तक की सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें कवि मन के द्वंद को बख़ूबी संजोया गया है। कल्पेश जी का हिंदी भाषा के प्रति प्रेम व समर्पण देखते ही बनता है।

इस पुस्तक में धार्मिक, आध्यात्मिक, वैचारिक, प्रेम, इत्यादि अनेक विषयों पर बात हुई है। जो कविताएँ तुकात्मक नहीं हैं, वो भी गेय हैं।

माँ शारदे की वंदना से पुस्तक की शुरुआत होती है और कल्पेश जी की रचना “विराटरूप दर्शन” के लिए उन्हें समानित किया जाना चाहिए, ऐसा मेरे व्यक्तिगत मत है। “विराटरूप दर्शन” के समय शायद “श्री विट्ठल” जी की विशेष कृपा व “माँ सरस्वती” का आशीर्वाद ही रहा होगा जो इस कविता का एक एक शब्द पाञ्चजन्य का स्वर लिए हुए है।

कवि अपने शब्दों से रूठ जाता है, तो कहीं शब्द रूठ जाते हैं। “राइटर्स ब्लॉक” को इतनी खूबसूरती से बयान करने का अंदाज बेहद निराला है। कवि स्वयं को एक “शुभ संकल्प” मानते हैं, और शायद इससे खूबसूरत आत्म स्वीकृति मैंने आज तक नहीं पढ़ी है। कहीं पढ़ा था कि युद्ध नहीं होना चाहिए, पर जीवन सदैव युद्ध की तैयारी में बीतना चाहिए। अपने विद्यालय व प्रधानाध्यापक जी के लिए लिखी मेरी ये पंक्तियाँ,
महासमर की तैयारी में
गीता हमें पढ़ाते रहे
महाभारत बचाने हेतु
रामायण सिखलाते रहे…

कल्पेश जी भी बारंबार युद्ध के विनाशकारी प्रभावों की ओर इंगित करते हैं। साथ ही ये भी कहते हैं कि युद्ध अवश्यम्भावी है। समर होगा तो रक्त भी बहेगा, समर के लिए हम तैयार भी नहीं हैं। फिर भी, स्वधर्म की खातिर कवि शुभ संकल्प लेते दिखते हैं, कि यदि युद्ध हुआ तो अर्जुन की भांति हम कृष्ण को समर्पित होंगे।

“गर्व भरे भारत मस्तक पर, जो किरीट अडोल रही है,
मैं तो कहाँ बोल पाता हूँ, मेरी हिंदी बोल रही है।”
जब कल्पेश जी कवि के रूप में अपनी सफलता का सारा श्रेय हिंदी को दे देते हैं, तब समझ आता है कि ये हिंदी के प्रचार प्रसार में कितनी तत्परता से लगे हैं। एयर जब ये कहते हैं कि, “मेरी कविता वापस कर दो” और “विरह नहीं लिखूँगा, जनन नहीं लिखूँगा” तब लगता है ये हिंदी भाषा का प्रेम कवि है जो इतना सरल हो गया है कि अपने पाठकों को किसी शिशु की भांति समझता है और नहीं चाहता “दुःख” लिखना।

“हम अपना फ़ोन हैं” एक ऐसी रचना है जिसके बारे में मैंने सबसे अधिक विचार मंथन किया और एक कविता तो कल्पेश जी ने विपरीतार्थक बिम्बों को समर्पित कर दी। कल्पेश जी ने आज के समय की कुरीतियों पर बड़े सहज भाव से और कहीं कहीं तो बिम्बों का सहारा लेकर बड़ी खूबसूरती से तंज़ कसा है।

श्रृंगार तो ना जाने कितने लोग लिख रहे हैं, पर कल्पेश जी उस प्रेम को, उस खूबसूरती को, इतने सीधे-सरल शब्दों में अभिव्यक्त करते हैं कि ऐसा लगता है वो हमारे ही शब्द हों जिनसे हम ही अनभिज्ञ रहे हैं।

“चूल्हे के ईंधन की ख़ातिर, थोड़े स्वप्न जला लेंगे” में हर परिस्थिति में साथ निभाने का वादा।
“एकांतिक क्षण है प्रिय बोलो, आगे अधिक विचारो ना” में प्रेम की अभिव्यक्ति।
“सप्तपद अग्नि के फेरे, साथ में हमने लिए” में सप्तपदी का महत्व और वचनों को सात जन्म तक निभाने का वादा।
“अब मिलन से भय लगता है, इसी विरह से मोह बड़ा है” में विरह में भी खूबसूरती का बखान।
“यौवन से बतियाता आया, दर्पण भी अब मौन ढला है” में अजैविक वस्तुओं से भी प्रेम के बारे में बात कर लेने का हुनर। ड्रेसिंग टेबल, वार्डरॉब, आईना, घर का कूलर, सब कुछ ही तो प्रेम में प्रेमी का हो जाता है।
और “तुमको लिखना कभी गीत आया है” “पिया मिलन की रात थी” और “प्रणय निवेदन” तो कालजयी रचना जैसी लगती हैं।

मुक्त रचनाओं को कल्पेश जी ने इस संग्रह में विशेष स्थान दिया है। कहने भर को ये छोटी रचनाएं हैं जिन्हें बस “काम शब्दों का” होने की वजह से शायद अपना अलग पन्ना नसीब नहीं हुआ है, पर ये एक एक रचना अपने आप में सम्पूर्ण कहानी बयान करती हैं।
“कैसे मुखरित होगा मन का शूल बताते जाना,

“कविमन गहरी थाह है, पाट सका है कौन”
“लिखना आया हमें और न छोड़ा गया”

आदि आदि कहने को 2-4 पंक्तियाँ हैं पर कोई विस्तार से लिखने बैठे तो कल्पेश जी की एक एक पंक्ति पर उपन्यास लिखे जा सकते हैं, विचार मंथन किया जा सकता है। पर अगर आप 2 पंक्ति पढ़के कवि मन नहीं समझ सकें तो आप उपन्यास भी नहीं समझ पाएंगे।

इस पुस्तक के मिलने से एक ऐसे ख़ज़ाने की प्राप्ति हुई है, जिसे वर्षों तक सँजो के रखा जाएगा। मैं निश्चित रूप से ये कविताएँ अपनी बेटी को दूँगी ताकि वो अपने विद्यालय में इन्हें गा सके। यदि ये कविताएँ बच्चों के मन में पहले ही डाल दी जाएं, तो हम सुनिश्चित कर पाएँगे की आनी वाली पीढ़ी संस्कारों से ओत प्रोत होगी। और प्रेम रचनाएँ भी यदि वो पढ़ लें, तो शायद ज़िंदगी में ठोकरे थोड़ी कम लगेंगी…

पुस्तक- समय अभी तक वहीं खड़ा है
लेखक- कल्पेश वाघ,

प्रकाशन- संस्मय प्रकाशन, दिल्ली

मूल्य- 240रुपए

अमेज़न- https://www.amazon.in/dp/B09PJH3PDF/ref=cm_sw_r_apan_glt_i_79PBDA5NS1PVFHAN1XTX

#शिखा शर्मा, हरिद्वार

परिचय- शिखा शर्मा पेशे से बैंकर और दिल से लेखक हैं। ये पहाड़ों और भगीरथ तपोभूमि, माँ गंगा की गोद, हरिद्वार से आती हैं, और इनकी लेखनी में स्वच्छता व मासूमियत स्वतः ही झलकती है।

शिखा ‘दि नैनीताल बैंक लिमिटेड” की ऋषिकेश शाखा में कार्यरत हैं। और नैनीताल को भी अपने शब्दों के जाल में कैद कर चुकी हैं। लेखन के प्रति उनका प्रेम इतना अधिक है, कि ये नोटबंदी ओर मार्च क्लोजिंग के समय भी वक़्त निकाल कर कविताएँ लिख बैठती हैं। हाल ही में इनकी चौथी किताब “अमोक्ष” प्रकाशित हुई है।

matruadmin

Next Post

पुस्तक समीक्षा- खामोशियों की गूँज, अदिति सिंह भदौरिया

Sat Mar 12 , 2022
कागज़ पर कलम से खुद को सींचना यानी अदिति भादौरिया की कविताएं -कमलेश भारतीय अदिति भादौरिया फेसबुक पर मिलीं और पाठक मंच से भी जुड़ीं। एक पत्रिका की सहसंपादिका भी बनीं और लघुकथा में भी सक्रिय हैं। पहला पहला कविता संग्रह आया है- खामोशियों की गूंज। आखिर इन खामोशियों की […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।