कलम की सुगंध महफ़िल ए ग़ज़ल मंच का आनलाइन मुशायरा सम्पन्न ।

0 0
Read Time3 Minute, 45 Second

कलम की सुगंध महफ़िल ए ग़ज़ल मंच पर आनलाइन मुशायरा का आयोजन किया गया । इस कार्यक्रम में संस्थापक संजय कौशिक विज्ञात जी, पटल संचालक धर्मराज देशराज की उपस्थिति में संपन्न हुआ । कार्यक्रम की शुरुआत अर्चना पाठक निरन्तर ने सरस्वती वंदना से की ।
भारत के अनेक जगहों से रचनाकारों ने प्रतिभागिता की सभी रचनाकारों ने एक दूसरे की रचनाओं को सुना और जी भर के प्रशंसा कर एक दूसरे की हौसला अफजाई की ।

मुशायरे में संस्थापक संजय कौशिक विज्ञात ने सुन्दर और सार्थक ग़ज़ल पढ़ी -‘

दग्ध होती देख धरणी नभ पिघलना चाहिए।
बादलों के पार से अम्बर बरसना चाहिए।।

वरिष्ठ साहित्यकारा आशा शैली ने बेटियों के बारे में कुछ अपनी भावनाएँ यूँ प्रकट की ।

लोग मारे हुए बदनसीबी के वो
जिनकी किस्मत में होती नहीं बेटियाँ

–डॉ. कविता विकास की शानदार गज़ल देखिए

साथ हो तुम तो ग़ज़ल गीत के माने होंगे

मौसमे ज़ीस्त हमेशा ही सुहाने होंगे

डाॅ. आलोक कुमार यादव जी ने कहा-

आग दिल में लगाकर किधर चल दिए
आँख मुझसे मिलाकर किधर चल दिए

डॉ०अनुराग सिंह नगपुरे गोंदिया, महाराष्ट्र से कुछ यूँ धरा के बारे में अपनी बात रखी —

सुनों हे सभ्य प्राणियों धरा की ये पुकार है।
युगों-युगों से सह रही ये मौन अत्याचार है।।

सतेन्द्र मोहन शर्मा जी की ग़ज़ल देखिए–

सावन आ गया है दिल मेरा कितना अकेला है,
परिंदों की चहक है फिर भी ये ख़ामोश बैठा है !

मुशायरे की अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ गज़लकार धर्मराज देशराज की ग़ज़ल की बानगी देखिए–

नग़मे ग़मो के जब कभी गाती हैं हिचकियाँ
वादा वफ़ा का याद दिलाती हैं हिचकियाँ।

कमल कटारिया करण अपने ही लहजे में कुछ ऐसी बयानी की—

तेरे होठों की गर्माहट से बोसे टूट जाते हैं।
बहुत बेबाक लफ़्ज़ों से भी रिश्ते टूट जाते हैं।

विनोद कुमार हँसोड़ा जी ने पर्यावरण के लिए कहा–

आओ मिलकर स्वच्छ बना लें,
धरती का कण -कण ।

अनिता मंदिलवार सपना ने अपनी ग़ज़ल की माध्यम से खुश रहने का संदेश दिया –‘

बिन रूके ये कदम हम बढ़ाते रहे ।
खुश हुए जो यहाँ गीत गाते रहे ।।

अर्चना पाठक ‘निरंतर’ ने प्रेम की अभिव्यक्ति कुछ इस तरह से दी-‘ल

तेरे सिवा कोई मुझे भाता नहीं।
तेरे बिना ज़िंदा रहा जाता नहीं।

इस मुशायरे में वरिष्ठ गज़लकार स्वरूप किशन, नज़र द्विवेदी, हीरालाल यादव, मीना भट्ट भी उपस्थित रहे । सभी ने इस मुशायरे की भूरि भूरि प्रशंसा की । संस्थापक संजय कौशिक विज्ञात ने कहा कि ऐसे कार्यक्रम होते रहने चाहिए । कार्यक्रम का बेहतरीन संचालन अनिता मंदिलवार सपना ने की ।

matruadmin

Next Post

काव्य सम्मेलन के माध्यम से विश्व साहित्य नारी कोष ने मनाया वट सावित्री व्रत

Sun Jun 13 , 2021
कलम की सुगंध विश्व साहित्य नारी कोष के तत्वावधान में वट सावित्री अमावस्या के शुभ अवसर पर काव्य सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में संस्थापक संजय कौशिक विज्ञात, अध्यक्ष अनिता भारद्वाज अर्णव ,मुख्य अतिथि मंशा शुक्ला जी ,विशिष्ट अतिथि हर्षा देवांगन की उपस्थिति में कार्यक्रम का सुंदर आयोजन किया […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।