अब न वो दर्द, न वो दिल, न वो दीवाने हैंअब न वो साज, न वो सोज, न वो गाने हैंसाकी! अब भी यहां तू किसके लिए बैठा हैअब न वो जाम, न वो मय, न वो पैमाने हैं-नीरजक्या कहूँ! निःशब्द हूं।लगभग विचारशून्य-सी।क्या लिखूं।एक नन्ही कलम कैसे लिख पाएगी उस […]

पहला पल, पहली घड़ी माँ का आँचल थामा था अजीब सी अनुभूति थी माँ ने भी यह माना था भुला दी तकलीफें सारी अभी-अभी माँ ने झेली थी सकूँन का वह पल था झोली में खुशियाँ खेली थी छलक पड़े आँसू भी नयन जो कल सूखे थे फुट पड़ी दूध […]

वह नई नवेली दुल्हन थी सोलह श्रृंगार सजाया था लांघ पिता की दहलीज आगे कदम बढ़ाया था थी अरमानो की डोली सपने खूब संजोये थे पिता ने पीठ दिखाई तो भाई भी बहुत रोये थे कुछ वर्षों में ही तूमने इतना प्यार लुटाया था बनकर दिल की धड़कन कितना हमें […]

बहू मैं तुम्हारे घर की बेटी बनाकर रखना दुल्हन हूँ,तूम्हारे बेटे की पलकों पर बैठाकर रखना निकली हूँ पिता के दर से डोली अरमानों की सजाकर खुशियाँ सदा परोसना गोदी मे अपनी बैठाकर आई हूँ माता-पिता की चौखट को लांघकर दिल मे बैठाकर रखना बेटी अपनी समझकर खुश्बू हूँ, मैं […]

तुम हो मेरी मांग का सिन्दुर तुम हो मेरे सोलह श्रृंगार सदा सुहागन रहुँ मैं देना आर्शीवाद हर बार चुड़ी खनके हाथो मे खन-खन पैरो मे हो पायल की झंकार माथे पर हो बिन्दियाँ सुहाग की गले मे हो मोतियों का हार आँखों मे हो कजरा और होठो पर हो […]

  योग प्रकृति,शरीर विज्ञान(स्थूल और सूक्ष्म शरीर)और आध्यात्मिक तथ्यों का सम्मिश्रण है।योग शब्द अर्थात मेल या जुड़ना,वैसे भी देखा जाए तो विभिन्न लाभकारी क्रियाओं का संयोग योग में है।योग शब्द से ही योगी शब्द की व्युत्पत्ति हुई,जिसका अर्थ होता है महान तपस्वी, जिसने इंंद्रियों और मन पर विजय प्राप्त कर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।