बहर~2122 2122 2122 212 काफ़िया-आना रदीफ़-चाहिये बैठकर  यूं   ही    नहीं   आँसू   बहाना  चाहिये भूलकर    हर    दर्द   यारो   मुस्कराना  चाहिये खंजरों  से  तेज  होती  है  किसी  की  बददुआ जानकर  तो  दिल किसी का ना दुखाना चाहिये रूठ  जाने  का  अगर  ये  शौक उनके सर चढ़ा ठीक  ही  है प्यार  का  मुझको  […]

श्रीदेवी क13 अगस्त 1963 को जन्मी श्री अम्मा यंगर अयप्पन उर्फ श्रीदेवी तमिलनाडु के सिवाकाशी कस्बे में हुवा था पिता कन्नड़ ओर माता तेलगु परिवार से थी पहली तमिल फिल्म 3 साल की उम्र में थूंनई वन थी श्री की बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट दूसरी फिल्म में ही अवार्ड से नवाजा […]

(इंदौर में एक स्कूल बस हादसे पर) दोस्तों,कोई भी बड़ा हादसा या दुर्घटना होने के बाद कवायदें शुरू होती है कि जिम्मेदार कौन ? ? क्योंकि,इस घटना का ठीकरा किसी के सिर तो फोड़ना ही होता है। अन्वेषण,जांच-पड़ताल.. इस तरह ताबड़तोड़ शुरु होती है कि,दिखावा किया जाता है कि हमसे […]

मुम्बईl निर्देशक अली अब्बास जफर और संगीतकार विशाल-शेखर की प्रतिभा से बनी फिल्म `टाइगर ज़िंदा है` में वाकई टाइगर का कमाल ज़िंदा हैl २ घण्टा ४१ मिनट की इस फिल्म में कलाकारों में-सलमान,कैटरीना,सुदीप,कुमुन्द मिश्रा,अनुप्रिया,गिरीश कर्नाड,परेश रावल और ईरानी अभिनेता सज्जाद देलफरूज आदि हैंl मुम्बई के खचाखच भरे सिनेमाघर सलमान के प्रशंसकों की संख्या जता […]

इन्दौर।मुम्बई पहुँचते ही खास दोस्तों का जमावड़ा हुआ और लघु फ़िल्म ‘बुलबुल’ देखने के लिए संजय शेष ने कहा। फ़िल्म देखी तो उसके बारे में लिखे बिना नहीं रहा गया। यह फिल्म महज २५ मिनट की है,लेकिन साजो-सामान और बजट किसी आम फ़िल्म से कम नहीं है। स्थलों से लेकर […]

‘फुकरे रिटर्न्स’ के निर्देशक- मृगपालसिंह लाम्बा हैं तो निर्माता रितेश सिधवानी, फरहान अख्तर हैं। कलाकारों में ऋचा चड्ढा,पुलकित सम्राट, वरूण शर्मा,प्रिया आनन्द, अली फैज़ल,पंकज त्रिपाठी और विशाखा ने अभिनय किया है। २ घण्टे १५ मिनट की इस फिल्म की कहानी पिछली फिल्म से ही शुरू की गई है। भोली पंजाबन (ऋचा) को जेल हो चुकी है,वह जेल […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।