मत खेलो किसी की, भावनाओ से तुम। वरना बहुत तुम भी, आगे पषताओगे। जब याद तुम्हें अपनी, करनी की आएगी। तब अफसोस जताने का, समय भी तेरे पास नहीं होगा।। माना कि प्यार भावनाओ, पर ही टिका है। इसमें दो दिल का मिलन, दिल से होता है। पर तुम तो […]

तुम हो कलयुग के भगवान गुरु विद्यासागर। तुम हो ज्ञान के भंडार गुरु विद्यासागर। हम नित्य करें गुण गान गुरु विद्यासागर।। बाल ब्रह्मचारी के व्रतधारी सयंम नियम के महाव्रतधारी। तुम हो जिनवाणी के प्राण गुरु विद्यासागर। हम नित्य करे गुण गान गुरु विद्यासागर।। दयोदय से पशु बचाते भाग्योदय से प्राण […]

आज कल कम ही नजर आते हो। मौसम के अनुसार तुम भी गुम जाते हो। कैसे में कहूँ की तुम मुझे बहुत याद आते हो।। दर्द दिल में बहुत है किस से व्या करू। हमसफ़र बिछड़ गया। अब किसका इंतजार करू। अब जो भी मिलते है वो हंसते और हँसाते […]

2020 का मेरा संकल्प है, हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा मिले। पूरे हिंदुस्तान के हर शहर में, हर भारतीय की जुबा से ये बोली जाए। जिसने मुझे को बहुत सम्मान दिलवाए। ऐसी मीठी भाषा को, में क्यो छोड़ दूं। कहने वाले को और सुनने वाले को, ये बहुत ही सरल […]

नया साल दे आपको, मन माफिक परिणाम। सभी ख्वाब पूरी हो, करते प्रार्थना ईश्वर से हम । आपको रिद्धि दे, सिद्धि दे, वंश में वृद्धि दे। ह्रदय में ज्ञान दे, चित्त में ध्यान दे। अभय वरदान दे, दुःख को दूर कर। सुख भरपूर कर, आशा को संपूर्ण कर। सज्जन जो […]

कुछ तो बात है उनमें, तभी लोग उनके हो जाते है। अपने अपने प्यार का इजहार करने, गुलाब का फूल लेकर, बार बार सामने जाते है। भले ही कुछ बोल न सके, पर अपनी बात गुलाब दिखकर समझते है। और अपनी चाहात को, उन्हें दिखाते है।। कमबख्त ये दिल भी, […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।