कभी मीठी सी मुस्कान हूं मैं । कभी किसी की अरमान हूं मैं । कभी किसी की जान हूं मैं । कभी किसी की जहान हूं मैं । कभी मुझमें दुनिया समायी है । कभी मैंने इतिहास रचायी है । इस धरा की क्या बात करूं मैं । तीनों लोकों […]

न हिंदू खतरे में है न मुसलमान / न सिख-ईसाई… खतरे में तो मेरे देश की बेटियाँ हैं | जो आये दिन बनती हैं शिकार हैवानों की, शैतानों की… जिस दिन मेरे देश के मंत्रियों, धर्मगुरु, लालफीताशाही की अय्याशी मिट जायेगी बेटियाँ स्वत: ही सुरक्षित हो जायेंगी | तुम खूब […]

नल के जल को भी गंगाजल समझिए। भूलकर भी न दुश्मन को निर्बल समझिए।। जो हो गया सो हो गया, मत रोइए, मिले हुए हर फल को कर्मफल समझिए।। सवालों के शूल से दिल घायल न हो, इक सवाल को दूसरे का हल समझिए।। ‘सावन’ सुख से सोइए सूखे बिस्तर […]

_हर बार महत्वपूर्ण होते है अखबार वाले-सत्तन_इंदौर। स्टेट प्रेस क्लब, मध्यप्रदेश द्वारा कवि एवं शायर मीडियाकर्मियों का कवि सम्मेलन एवं मुशायरा ‘हम भी है कमाल के’ का आयोजन रविवार को साँझी मुक्ताकाश, गाँधी हॉल में किया गया। आयोजन के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय कवि सत्यनारायण सत्तन, विशिष्ठ अतिथि ग़ज़लकार अजीज़ अंसारी […]

वर्तमान में बाल साहित्य उन्नयन के लिए एक नाम देशभर में जाना पहचाना है, वह है श्री राजकुमार जैन राजन का, जो कि तन-मन और धन तीनों तरह से बाल साहित्य के लेखन, प्रकाशन और निःशुल्क वितरण के क्षेत्र में अपना अहम योगदान दे रहे हैं। बाल साहित्य के अलावा […]

स्वयं की स्वयं से , पहचान बनाओ, स्वयं में हम कौन है ? यह जान जाओ। कहां से हम आए है , कहां तक हमे जाना है? कहां हमारा , आखिरी ठिकाना है? कौन हमें चला रहा , किसके हाथ मे रिमोट है? हमारे अस्तित्व का, किसके पास प्रोनोट है? […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।