चल दोस्त नदी के किनारे चलें, भागकर घर से, छुपते-छुपाते,बरगद तले चलें.. चल दोस्त नदी के किनारे चलें। वो मुंडेर,जहाँ बीता करते थे सारे दिन अपने, बैठ के बुना करते थे बड़े बनने के सपने.. उस सपने की सच्चाई से दूर लौट, अपने बचपन में चलें.. चल दोस्त नदी के […]

मुट्ठी भर सबल नारियों से, नारी नहीं हो सकती सबला.. देखो जाकर हर गली मोहल्ले, नारी की क्या हो रही दुर्दशा। है यह पुरूष प्रधान समाज, नारी को क्या महत्त्व देगा.. पैरों तले रौंदकर अपने, जख्मों से भरा उपहार देगा। वस्त्र हटा के अंग देख लो, किसी तुम दुखिया नारी का.. रक्त वर्ण […]

विश्व वन्दनीय वात्सल्य मूर्ति साकार, ‘माँ’स्वयं ही है एक परिपूर्ण संसार.. दूर करे जो मन के,सब क्लेश विकार। ‘माँ’ के स्पर्श में छिपा सुकून अपार, पहाड़-सी विपदा हो जाए बेड़ा पार. ‘माँ’ के आशीष से मिले सब संसार। चाहे सुख,या दुःख की बहे बयार, ‘माँ’के आँचल में दुआओँ की बहार.. […]

वे परसाईं जी के सबसे बड़े प्रेमी हैं, और परसाईं-प्रसाद बाँटने वाले इकलौते वितरक भी।जब भी वक्तव्य देते हैं,परसाईं से नीचे नहीं उतरते।आशय यह कि,परसाईं पूरी तरह उनके मुँह लग चुके हैं। इस बात को वे कई बार साबित भी कर चुके हैं। उनके पास परसाईं के हाथ की लिखी […]

चलो हम सजाएं धरा से गगन तक, खुशियाँ बिछाएं धरा से गगन तक। रुकेंगे न अब हाथ मरु में सृजन तक, बिखेरेंगे खुशबू धरा से गगन तक। पढ़ा तुमने गीता कुरान और बाईबल, पढ़ा हमने केवल धरा से गगन तक। नफरत हमारी रगों में नहीं है, पूजा सभी को है […]

गंगा दूषित हो जाएगी,लज्जित होते भूप मिलेंगे कलयुग में न जाने कितने,जयचंदों के रूप मिलेंगे। सब मनु रोगी हो जाएंगे,सैनिक लोभी हो जाएंगे, नित्य नए नव धर्म चलेंगे,साधु भोगी हो जाएंगे। सागर को उपदेशित करते,जग के सारे कूप मिलेंगे, कलयुग में न जाने कितने,जयचंदों के रूप मिलेंगे। ज्ञानी मौन रहेंगे […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।