माता का आशीष मिलेगा, सच्ची राहें चुनने से। दुष्कर्मों का मूल मिटेगा, सद्कर्मों के चुनने से॥ कामचोर,पापी,पाखंडी, रोएंगे,पछताएंगे। भक्तों को ही मोक्ष मिलेगा, भक्ति हृदय से चुनने से॥                                            #अवधेश […]

भारत का इतिहास लिखा है,रक्तपात चिंगारी से। जयचंदों के छल प्रपंच,और भारत की लाचारी से॥ युद्ध भले हल्दीघाटी का,कुरुक्षेत्र का संग्राम हो। गैरों ने हो लहू बहाया,छल अपनों का अविराम हो॥ शाह बहादुर ज़फ़र सरीखे,भारत माँ के लाल हुए। मातृभूमि खातिर बर्मा में,वे जाकर निज प्राण दिए॥ पृथ्वीराज चौहान से […]

तुम पुष्प से सुकुमार हो,तलवार की भी धार हो। तुम ही भविष्य हो देश का,मझधार में पतवार हो॥ माँ भारती को मान दो,और बड़ों  को सम्मान दो। जो दुष्टता करते यहाँ,उन दुष्टों को अपमान दो॥ कर्तव्य पथ पर बढ़ चलो,और जीत सिर पर मढ़ चलो। जो सतजनों को सताता हो,दुष्टों […]

प्रथम हमारी ‘जननी’ माता। दूसरी हमारी ‘धरती’ माता।! तीसरी हमारी ‘प्रकृति’ माता। चौथी हमारी ‘नदियाँ’ माता। पाँचवी हमारी ‘गैया’ माता। छठवीं हमारी ‘रोज़ी-रोटी’ माता॥ #डा. महेशचन्द्र शांडिल्य Post Views: 364

मधुबन जीवन,एक महकता, तपती धरा तब नीर बरसता। राही तू क्यों, छांव तलाशे? आलौकित कर जीवन पथ को, जो मिल जाए,तू अपना रे राह पर अपनी बढ़ता जा रे। सुख की रातें गन्ध मारती, दुःख ही है सुखों का सारथी। जलकर बाती उजियारे पाती, मिले न इच्छित तो जश्न मना। […]

चिंता  बनी   चिता  हूँ मैं। हाँ,  एक   पिता  हूँ  मैं॥ तन्हा-तन्हा   चलता  हूँ, सूरज  जैसा   ढलता  हूँ। बिन   पानी  पौधे  जैसा, आँसू   जैसा  पलता  हूँ॥ कभी-कभी ऐसा लगता, इक अधूरी खता  हूँ मैं। हाँ, एक पिता….॥ अपनी सोच में खोया हूँ, हँसते-हँसते   रोया […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।