राजनाथ से सीखें: खाला का घर नाय !

0 0
Read Time3 Minute, 29 Second
vaidik-1-300x208
उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अपने-अपने बंगले 15 दिन में खाली करें, ऐसा आदेश सर्वोच्च न्यायालय ने जारी किया है। गृहमंत्री राजनाथसिंह अपने लखनऊ स्थित इस बंगले को तुरंत खाली कर रहे हैं लेकिन सभी पूर्व मुख्यमंत्री उन बंगलों को किसी न किसी बहाने हथियाए रखना चाहते हैं। मायावती ने एक नई तरकीब इजाद कर ली है। उन्होंने अपने बंगले को ‘कांशीराम स्मारक’ बना दिया है। अब सरकार उसे खाली कैसे करवाएगी ? मायावती ने इस बंगले को अब दलितों के मान-अपमान का विषय बना दिया है। कुछ पूर्व मुख्यमंत्री उप्र सरकार से अनुरोध कर रहे हैं कि उन्हें कम से कम अगले दो साल तक उन बंगलों में रहने दिया जाए। वे ये जुगाड़ भी लगा रहे हैं कि उन बंगलों को विपक्षी नेता के नाम कर दिया जाए ताकि वे वहीं टिके रह सकें। इसमें शक नहीं कि इन बंगलों को खाली करने के लिए 15 दिन की अवधि काफी कम है। वह दो-तीन माह तो होनी ही चाहिए। ये नेता लोग अब चाहे सत्ता में न हों लेकिन इनसे मिलने-जुलने वालों की भीड़ लगी रहती है। इसके अलावा उनके सुरक्षाकर्मियों और घरेलू सेवकों के लिए पर्याप्त स्थान की जरुरत होती है। विधानसभा ने प्रस्ताव पारित करके ये बंगले हमेशा के लिए इन पूर्व मुख्यमंत्रियों को दे दिए थे। आश्चर्य है कि किसी भी पार्टी ने उस समय इसका विरोध डटकर क्यों नहीं किया ? इन बंगलों को अपना निजी स्थायी निवास मानकर इन नेताओं ने इनका साज-सज्जा पर अपनी जेब से लाखों रु. खर्च किए हैं। हमें अपने फटे कपड़े फेंकने में भी दर्द होता है, बताइए इन नेताओं से हम इतनी बड़ी कुर्बानी की आशा कैसे करें ? लेकिन इन्हीं नेताओं के बीच राजनाथ सिंह जैसे लोग भी हैं, जिन्होंने अपने आचरण को सारे नेताओं के लिए अनुकरणीय बना दिया है। वैसे इन नेताओं के पास रिश्वत, चंदे और भेंट के करोड़ों रु. पड़े रहते हैं। वे चाहें तो इन सरकारी बंगलों से भी बड़े बंगले रातोंरात खरीद सकते हैं। मेरी राय तो यह है कि देश के सभी छोटे-बड़े नेताओं को 4-5 कमरों के फ्लेट दिए जाने चाहिए। राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से भी उनके निवास तुरंत खाली करवाने चाहिए। मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों से भी ! इन्होंने राजनीति को खाला (मौसी) का घर समझ रखा है। जो भी राजनीति में आए, उसे कबीर का यह दोहा याद रखना चाहिए:
यह तो घर है, प्रेम का, खाला का घर नाय ।
सीस उतारे, कर धरे, सो पैठे घर माय ।।
                                                            #डॉ. वेदप्रताप वैदिक

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

भवानीमंडी के राजेश पुरोहित अविचल पत्रिका के "राष्ट्रीय प्रचार प्रसार अधिकारी" नियुक्त*

Sat May 26 , 2018
पुरोहित अविचल प्रवाह पत्रिका के स्थायी सदस्य मनोनीत भवानीमंडी | नगर के कवि एवम साहित्यकार राजेश कुमार शर्मा”पुरोहित” को साहित्य संगम संस्थान इंदौर मध्यप्रदेश का राष्ट्रीय प्रचार प्रसार अधिकारी का अधिकारी नियुक्त किया गया है।   पुरोहित ने बताया कि साहित्य संगम संस्थान नारी मंच की मासिक ई पत्रिका अविचल […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।