यूँ ही कभी…

2
Read Time5Seconds

rashmi thakur

तुम किसी रोज मेरे पास आओ कभी,
मुझपे जरा हक़ जताओ तुम कभीl 

             माना हैं दरमियां मीलों के फासले,
अहसासों में तो गले लगाओ तुम कभीl 

निहारती हूँ रोज आईने में खुद को,
शीशे में भी नजर आओ तुम कभीl 

             हम तो महकती खुशबू से हैं सदा,
खुशबू बन साँसों में उतर जाओ तुम कभीl 

ख़्वाबों में तुम सदा होते हो साथ मेरे,
सोते हुए किसी रोज यूँ जगाओ तुम कभीl 

              पाती हूँ ख़ुद को अँधियारों में ही अक्सर,
आकर अचानक दीप जलाओ तुम कभीl 

राहें आसान नहीं जीवन की तुम बिन,
उलझनों को आकर के सुलझाओ तुम कभीl 

                 सर्दियों में ठिठुरती हूँ ओस की बूंदों-सी,
सूरज-सा आकर ताप दे जाओ तुम कभीl 

तुम बादल हो मैं हूँ धरती प्यासी-सी,
पानी की बूंदें बन प्यास बुझाओ तुम कभीl 

                   दूरियों की परवाह न किया करो तुम,
यादों में आकर रूह में उतर जाओ तुम कभीll 

             #रश्मि ठाकुर

परिचय: रश्मि ठाकुर पेशे से शिक्षक हैं और कविताएँ लिखने का शौक है।आप मध्यप्रदेश के दमोह जिले के खमरिया(बिजौरा) में रहती हैं।लिखने का शौक बचपन से ही है,पर तब समय नहीं दे पाई। अब फिर से प्रेम विरह की रचनाओं पर पकड़ बनाई और प्रेम काव्य सागर से सम्मानित किया जा चुका है। पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित होती रहती है। सोशलिस्ट मीडिया पर भी आप सक्रिय हैं। रश्मि ठाकुर की जन्मतिथि-३ सितम्बर १९७७
तथा जन्म स्थान-खमरिया (दमोह) है। बी.ए.,एम.ए. के साथ ही बी.एड करके शिक्षा को कार्यक्षेत्र(स्कूल में सामाजिक विज्ञान की शिक्षिका)बना रखा है। आपके लेखन का उद्देश्य-झूठ छल फ़रेब औऱ अपने आसपास हो रही घटनाओं को नज़र में रखते हुए उनका वास्तविक चित्रण रचनाओं के माध्यम से करना है।

 
0 0

matruadmin

2 thoughts on “यूँ ही कभी…

  1. सच में दिल से लिखी दिल पे लगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आसमां की बात 

Thu Feb 1 , 2018
प्यार से लोग नहीं अब बात करते हैं, किसी के पीछे नहीं वक्त बर्बाद करते हैंl  अक्सर पड़ जाता है काम एक-दूजे से, मगर क्यूं नहीं इसकी परवाह करते हैंl  ख्याल आया अचानक हमको उनका, क्या वो भी हमको किया याद करते हैं ? मालूम नहीं क्या सोचते हैं वो […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।