य-व्यवस्था की सबसे गंभीर बीमारी पर उंगली रख दी राष्ट्रपति ने

0 0
Read Time3 Minute, 24 Second

vaidikji

हमारे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केरल में वही बात कह दी,जो मैं अपने भाषणों में अक्सर कहा करता हूं। वे हमारे शायद ऐसे पहले राष्ट्रपति हैं,जिन्होंने हमारी न्याय-व्यवस्था की सबसे गंभीर बीमारी पर उंगली रख दी है। उन्होंने केरल उच्च न्यायालय की हीरक जयंती के अवसर पर कहा कि,-अदालत के फैसले वादी और प्रतिवादी की भाषाओं में होने चाहिए,न कि सिर्फ अंग्रेजी में ! केरल के फैसले मलयालम और बिहार के फैसले हिंदी में क्यों न हो। यदि फैसले अंग्रेजी में भी हों,तो भी एक-दो दिन बाद वे स्थानीय भाषा में क्यों नहीं उपलब्ध कराए जा सकते ? ध्यान रहे कोविंद ने यहां अपनी अदालतों पर हिंदी थोपने की बात नहीं की है। अंग्रेजी थोपने का विरोध किया है। क्यों किया है ?,  क्योंकि अदालतों में अंग्रेजी की अनिवार्यता के कारण न्याय मिलने में देरी लगती है और जिन्हें न्याय दिया जाता है,उन्हें ठीक से पता ही नहीं चलता कि उस फैसले के तर्क क्या-क्या हैं। उन्हें यह भी पता नहीं चलता कि, उनके वकील ने अंग्रेजी में जो बहस उनके लिए की है,वह भी ठीक है या नहीं ।

ब्रिटिश चिंतक जाॅन स्टुअर्ट मिल ने क्या खूब कहा है कि ‘देर से दिया गया न्याय,नहीं दिए गए के बराबर है।’ हमारे देश में आज ३ करोड़ मुकदमे अधर में लटके हुए हैं। एक-एक मुकदमा तीन-तीन पीढ़ियों तक चलता है। हमारे सर्वोच्च न्यायालय के कई मुख्य न्यायाधीश मित्रों ने मुझे बताया कि,अंग्रेजी की अनिवार्यता के चलते हमारी बड़ी मुसीबत होती है लेकिन वह हमारी मजबूरी है। अगर कानून अंग्रेजी में है,बहस अंग्रेजी में है तो फैसला भी अंग्रेजी में ही सरल होता है। तो फिर दोष किसका है ?,हमारी निकम्मी सरकारों का,हमारे अनपढ़ नेताओं का, हमारे स्वार्थी भद्रलोक का !
हम अपना काम-काज अंग्रेजी में जैसे-तैसे धका ले जाते हैं,लेकिन राष्ट्रपति कोविंद ने क्या ठीक कहा है कि हमारी अंग्रेजी की गुलाम अदालतें सबसे ज्यादा नुकसान देश के गरीबों,वंचितों,पिछड़ों,दलितों और ग्रामीणों का करती हैं। उनकी सुध कौन लेगा ? राष्ट्रपति की कुर्सी पर बैठकर भी रामनाथ कोविंद इन लोगों को नहीं भूले हैं,यह बड़ी बात है। मैं उनकी हिम्मत की दाद देता हूं और उनसे कहता हूं कि,वे इसी तरह खरी-खरी बोलते रहें तो जब वे इस ध्वजमात्र पद पर नहीं रहेंगे, तब भी देश के इतिहास में उनका ध्वज फहराता रहेगा।

                                                            #डॉ.वेद प्रताप वैदिक

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

स्त्री-पुरुष,एक दूसरे के पूरक,या प्रतिद्वंदी..

Fri Nov 3 , 2017
स्त्री-पुरुष,एक दूसरे के पूरक हैं या प्रतिद्वंदी। यह एक ऐसा प्रश्न या गम्भीर विषय है-जिसका उत्तर हर एक की परिस्थितियों पर निर्भर करता है। कहीं यह समानता के रूप में,कहीं पूरक तो कहीं प्रतिद्वंदी के रुप में देखने को मिलता है। यदि हम पीछे देखें तो पाते हैं सृष्टि में […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।