कूड़ा बीनने वाली

1 0
Read Time2 Minute, 57 Second
usha pathak
कूड़े-कचरे से अपनी जिन्दगी को
ढूँढती हुई,
पग-पग पर ठोकर खाती हुई,जब उस महिला को देखती हूँ
गरीबी हटाओ के नारे पर सोचती हूँ।
उसके फटे-पुराने कपड़ों से,
जब झाँकती है उसकी जवानी
राह चलते हुए लोगों की आँखें,
लुक-छिपकर उसी को निहारती हैैं
उसके गंदे कपड़ों और देह से
न किसी को घिन आती हैै।
मक्खियों की भाँति उनकी दृष्टि,
उसके अंगों को काटती हैं
कुछ वर्षों के बाद मैंने देखा,
शिशु को गोद लिए चलती हुई
पीठ पर कूड़ों से भरे बोरे को ढोती हुई
अपनी सन्तान को डाँटती हुई,
सड़क के कोने में सूखे स्तन को
पिलाती हई खो गई थी अतीत में।
जिन्दगी के उतार-चढा़व वाले गीत में,
मैंने उसे बुलाकर कमरे में बिठाया
बासी रोटियों को खिलाया,
सिसकियों में बोल पडी़ सहसा
कुछ देर बाद रुकी उसकी
आँखों की वर्षा,
बहिन जी दो दिन से मैं भूखे पेट
व दो माह से पेट से हूँ।
मैंने पूछा-‘बच्चे का बाप’?
बोल पड़ी-उस साले के विषय में
न पूछिए आप!
वह भाग गया है मुझे छोड़कर,
मेरी जवानी की गर्दन मरोड़कर
दो-दो पहाड़ को मैं कैसे ढोऊँगी!
किस पर हंसूँ, किसके सामने रोऊँगी?
इतना कहकर वह फफक पड़ी,
टूटती नहीं थी आँसूओं की लड़ी
किसी भाँति चुप कराकर,
उससे कहा-इधर से जब गुजरो,
यहाँ आकर कुछ रोटियों से खाली
व भरे पेट भरो,बे-मौत मत मरो।
वह उल्टे पाँव चली गई,
कूडे़-कचरे में खोजने जिन्दगी नई…।

                                            #डॉ उषा कनक पाठक

परिचय : डॉ उषा कनक पाठक की जन्म तिथि १० मार्च १९६३ और जन्म स्थान मिर्ज़ापुर है। आपका निवास उत्तर प्रदेश राज्य के शहर मिर्ज़ापुर में ही है। शिक्षा में आपने ४ विषयों में एम.ए.(हिन्दी,अंग्रेजी, संस्कृत और इतिहास) पी.एच-डी.(संस्कृत) की है। सामाजिक क्षेत्र में सेवा कार्यों के लिए आप कुछ सामाजिक संस्थाओं से भी जुड़ी हुई हैं।विधा गद्य एवं पद्य है। प्रकाशन में-तुलसी तेरे आंगन की, त्रिवेणी और अंजुरीभर आदि हैं, कुछ पत्र-पत्रिकाओं में निबन्ध एवं कविता प्रकाशित हैं। सम्मान के रुप में हिन्दीसेवी सम्मान मिला है। आपके लेखन का उद्देश्य स्वयं का सुख है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बरक

Tue Oct 3 , 2017
अभी छह महीने पहले ही आत्मविश्वास से लबरेज़ मिठाई की दुकान वाले लालाजी की जुबान पर एक ही बात चढ़ी रहती थीl अपने घनिष्ट मित्रों से वो कहते नहीं थकते थे कि-`अपनी छोरी को प्राइवेट से बी.ए. पास हुई गयो हैl अब ई के हाथ पीलो करी देनो हैl एक […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।