उपेक्षा

1
Read Time1Second
rashmi abhay
मैं भूल जाती हूँ अक्सर औकात अपनी..
और भूल जाती हूँ कि गुज़रते वक़्त के साथ
बड़े हो गए हो तुम,और तुमसे भी बड़े हो गए हैं
ख़्वाब तुम्हारे..जिन्हें कभी मैंने ही
तुम्हारी आंखों में सजाया था….।
आज तुम्हारे और तुम्हारे ख्वाबों के बीच
मैं एक उपेक्षित-सी वस्तु हूँ…,
जिसके जज्बातों का कोई मोल नहीं,
खुदा करे तुम आसमान की ऊंचाइयों को छू लो,
और मैं ज़मीं से लगी देखती रहूँ तुम्हारी उड़ान को।
दुआओं में हर वक़्त यही तो मांगा है,
कब मांगा मैंने अपने लिए कुछ भी विधाता से,
मगर आज मांगती हूँ यही दुआ मैं कि,
वो तुम्हें सफलता की वो ऊंचाई दे…
जहाँ से मैं तुम्हें नज़र ना आऊं…
क्योंकि अब जान चुकी हूं मैं कि,
तुम दोनों के लिए मैं कोई इंसान नहीं
बल्कि,एक अनचाही वस्तु हूँ॥

                                                                   #रश्मि अभय

परिचय : रश्मि अभय का पैतृक स्थान महाराजगंज(सीवान,बिहार) है।आपकी शिक्षा बीए,एलएलबी सहित बैचलर इन मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज़्म है। संप्रति स्वतंत्र पत्रकार और लेखन की है। एक राजनीतिक पत्रिका की ब्यूरो चीफ हैं। समृद्धशाली उच्च मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मी ‘रश्मि’ को लिखने-पढ़ने का शौक बचपन से ही रहा,मगर इसे कार्यरूप में इन्होंने करीबन 10 साल पहले शुरू किया। प्रकाशित पुस्तकें-सूरज के छिपने तक,मेरी अनुभूति,उमाशंकर प्रसाद स्मृति ग्रंथ शब्द कलश'(साझा संग्रह,सहोदरी कथा सोपान (साझा संग्रह)एवं सौ कदम
(साझा संग्रह)आदि आपके लेखन के गवाह हैं। कुछ पुस्तकें भी आने वाली हैं। आप लेखन में ब्लॉग पर भी सक्रिय हैं और पटना(बिहार)में रहती हैं।

0 0

matruadmin

One thought on “उपेक्षा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हिम्मत

Mon Aug 21 , 2017
टूट गई है मेरी हिम्मत, पस्त हो गया हौंसला। कितनी मुश्किल से जोड़कर, बुना था एक घोंसला। ख्वाब का ताना-बाना बुनकर, खड़ा किया एक आशियाना। जिंदगी के इम्तिहान ने, कर दिया चकनाचूर लेकिन, मैं भी लाचार और बेबस नहीं। कर लो चाहे जितना भी मजबूर, मैं गिरूंगा उठूंगा,फिर सम्भलूंगा। जोड़ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।