वरिष्ठ साहित्यकार सूर्यकांत नागर की पुस्तक ‘लघुकथा वृतांत’ लोकार्पित

2 0
Read Time3 Minute, 33 Second

लघुकथा की मार्गदर्शिका है ‘‘लघुकथा वृत्तान्त’’

इन्दौर। हिन्दी साहित्य के वरिष्ठ साहित्यकार-कथाकार सूर्यकान्त नागर की 30वीं कृति ‘‘लघुकथा वृत्तान्त’’ का लोकार्पण रविवार को श्री मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति द्वारा आयोजित कार्यक्रम में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए राष्ट्रीय कवि  सत्यनारायण सत्तन ने कहा कि
‘कम से कम शब्दों में अपनी बात कहने की कला लघुकथा है, दोहा, सोरठा भी पद्य में इस विधा के पूर्व उदाहरण है, उन्होंने कहा कि लघुकथा पुरानी परम्पराओं को जीवन्त करने का सार्थक प्रयास है।’
मुख्य अतिथि नर्मदा प्रसाद उपाध्याय ने कहा कि ‘साहित्य के दो रुप होते है भगवान विष्णु की तरह एक विराट एवं दूसरा वामन-लघुकथा उसी वामन का प्रतीक है, उन्होंने कृति की प्रशंसा की एवं आह्वान किया कि भारतीय लेखकों-समीक्षकों को विदेशी साहित्य भी देखना चाहिए।
म.प्र. साहित्य अकादमी के निदेशक डॉ. विकास दवे ने कहा कि ‘यह कृति लघुकथा लिखने वालों के लिए मार्गदर्शिका का काम करेगी। इसमें लघुकथा संघर्ष का सजीव वर्णन है।’
कृति पर समीक्षा करते हुए ज्योति जैन ने कहा कि कृति 3 भागों में विभक्त है, इसमें लघुकथा के विभिन्न आयामों को दर्शाया गया है। सतीश राठी ने कहा कि ‘‘लघुकथा वृत्तान्त’’ लघुकथा सन्दर्भ एक मार्गदर्शी व पुख्ता दस्तावेज है।
लेखक सूर्यकांत नागर ने इस पुस्तक के लिखे जाने के उद्देश्य और लघु कथा लेखन की बारीकियां भी बताई।
आरंभ में माँ सरस्वती अर्चना पश्चात् स्वागत उदबोधन समिति के प्रधान मंत्री अरविंद जवलेकर ने दिया। अतिथि परिचय के साथ संचालन साहित्य एवं संस्कृति मंत्री डॉ. पद्मा सिंह ने किया एवं अंत में आभार प्रचार मंत्री हरेराम वाजपेयी ने व्यक्त किया। अतिथियों का स्वागत डॉ. अर्पण जैन, सुधा चौहान, मणिमाला शर्मा, संगीता चौधरी ने किया। इस अवसर पर कृष्ण कुमार अष्ठाना, राजेश शर्मा, डॉ. पुरुषोत्तम दुबे, सदाशिव कौतुक, प्रदीन नवीन, उमेश पारीख, अनिल भोजे, प्रभु त्रिवेदी, महू से रामलाल प्रजापत, सरदारपुर से कु. प्रतिमा सिंह, डॉ. जवाहर चौधरी, मुकेश तिवारी, चैतन्य त्रिवेदी, संदीप श्रोत्रिय, अजीज अंसारी, अखिलेश राव, आशा जाकड़, ब्रजेश नागर, प्रतापसिंह सोढ़ी, सत्यनारायण व्यास, मोहन रावल एवं व्योमा मिश्रा आदि साहित्यकार व सुधीजन उपस्थित थे।

matruadmin

Next Post

मातृभाषा द्वारा भारत के प्रधानमंत्रियों पर आलेख लेखन प्रतियोगिता का आयोजन, अंतिम तिथि 9 जून 2024

Wed May 29 , 2024
मातृभाषा डॉट कॉम लाया है आपके लिए आलेख लेखन प्रतियोगिता। विशेष आलेख लेखन प्रतियोगिता का आयोजन हो रहा है, जो एक खुला मंच है सभी बुद्धिजीवियों के लिए जिसमें हमारे भारत के विभिन्न प्रधानमंत्रियों के बारे में आप आलेख लिखकर भेज सकते हैं, जिसका प्रकाशन मातृभाषा डॉट कॉम पर तो […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।