नीरज

0 0
Read Time56 Second

नमन तुझे है नीरज,
नमन तेरी लगन को।
चूम लिया आज तूने,
ऊँचे उस गगन को।

देखा था तूने सपना जो,
वो पूरा कर दिखाया।
सारे जग में अपना तूने,
परचम आज लहराया।

दिला के सोना देश को,
इतिहास रच दिया।
माँ भारती के लाल तूने,
कमाल कर दिया।

गदगद है देश सारा,
छाती है सबकी चौड़ी।
हर गली मोहल्ले में ,
खुशी की लहर दौड़ी।

टोकियो की धरती पर,
तिरंगा तूने लहराया।
माँ भारती का शीश तूने,
फक्र से उठाया।

उछाल दिया भाला आज,
तूने तबीयत से।
बन गया हीरो असली,
नीरज तू अपने दम से।

चमकता रहे गगन में,
तू सितारा बनके।
है दुआ हमारी यही,
तू यूँ ही सदा दमके

सपना (सo अo)
प्राoविo-उजीतीपुर
विoखo-भाग्यनगर
जनपद- औरैया

matruadmin

Next Post

गली का गुंडा

Sun Aug 8 , 2021
कभी गली का गुंडा हुआ करता था हरेराम । एक दिन नेताजी के कार्यक्रम में पूडी-सब्जी खाने के लिये चला गया और फिर उसी दिन से हरेराम नेताजी की पार्टी का कर्मठ कार्यकर्ता बन गया । अब हरेराम के गले में पार्टी का गमछा होता और माथे पर एक हाथ […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।